मौत को मात देकर जिंदगी की जंग जीतने वाला यह जवान ढेर करना चाहता है सभी आतंकियों को

नई दिल्ली : मौत को मात देकर जिदंगी की जंग जीतने वाले सीआरपीएफ कमांडेंट चेतन चीता कश्मीर में आतंकियों से लौहा लेने के लिए जाना चाहते हैं। दरअसल, चेतन चीता इन दिनों कश्मीर के हालातों से चिंतित है, जिस तरह से कश्मीर में आतंकवादी हमलों में भारत के जवान शहीद हो रहे हैं, उससे न पूरा देश बल्कि दुश्मनों से लौहा लेते हुए सीने पर 9 गोली खाने वाले चेतन चीता भी आहत है।

चेतन चीता का कहना है कि कश्मीर के हालात से वो काफी परेशान हैं। उन्हें वहां होना चाहिए था। कश्मीर को वो काफी मिस कर रहे हैं। चीता ने कहा कि वह कोबरा टीम का हिस्सा बनना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि इतनी सारी गोलियां खाने का बाद भी मैं यहां आपके सामने बैठा हूं, पर अभी भी लगता है कि मेरा कोई काम अधूरा है। यह इसलिये है कि मैं कुछ खास ही हूं।

बता दें कि सीआरपीएफ के 45 वें बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर चेतन चीता को 14 फरवरी को बांदीपुरा में हुई आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में 9 गोली लगने के बाद बी आतंकियों के साथ लड़ते रहे। उन्होंने गंभीर रूप से घायल होने के बावजूद 16 राउंड गोलियां चलाई और लश्कर के खतरनाक आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का आतंकवादी कमांडर अबू हारिस को ढ़ेर कर दिया।

Share This Post