क्या दोबारा 2019 में स्वामी रामदेव करेंगे मोदी का प्रचार ? BJP के लिए बेहद अहम् है बाबा का ये बयान


2014 के लोकसभा चुनाव में विश्वविख्यात योगगुरु स्वामी रामदेव जी ने उस समय के भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमन्त्री पद के उम्मीदवार श्री नरेन्द्र मोदी जी को प्रधानमन्त्री बनाने के लिए जमकर प्रचार किया था. अब जब 2019 के लोकसभा चुनावों में चंद महीने ही बाकी है, उस समय स्वामी रामदेव जी ने एक बार पुनः मोदी जी के लिए चुनावी प्रचार करने को लेकर बड़ा बयान दिया है. स्वामी रामदेव जी के इस बयान से न सिर्फ भाजपा बल्कि मोद्दी जी की चिंता बढ़ सकती है. आपको बता दें कि स्वामी रामदेव ने अगले आम चुनावों में मोदी जी के लिए प्रचार से इनकार करते हुआ कहा है वह अगले चुनावों में मोदी के लिए प्रचार नहीं करेंगे.

एक टीवी चैनल के कॉन्क्लेव में स्वामी रामदेव जी ने कहा कि में अगले चुनावों में मोदी जी के लिए प्रचार नहीं करने वाला हूँ.  उन्होंने कहा कि मैं सर्वदलीय भी हूं और निर्दलीय भी। रामदेव ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करना लोगों को मौलिक अधिकार है. उन्होंने कहा कि मैं या आप कहे या ना कहें पर मोदी सरकार को ये महंगाई कम करनी होगी. उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर ये महंगाई कम नहीं हुई तो इस महंगाई की आग उन्‍हें ले डूबेगी. उन्होंने कहा कि 2019 में मोदी सरकार का प्रचार नहीं करूंगा. उन्होंने कहा कि सरकार 2019 से पहले तेल के दाम घटा लें, वरना भाजपा की मुश्किल में आ सकती है. उन्होंने कहा कि मैं पहले सक्रिय था, लेकिन अब सक्रिय नहीं हूं. मैं किसी एक दल का नहीं बल्कि सर्वदलीय हूं. उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने तेल की कीमतों और महंगाई पर लगाम नहीं लगाया तो ये उन्हें ले डूबेगी.

उन्होंने एक चैनल के कार्यक्रम में कहा, ‘कई लोग मोदी सरकार की नीतियों की सराहना करते हैं, लेकिन अब उसमें सुधार की आवश्यकता है. महंगाई बहुत बड़ा मुद्दा है और मोदीजी को शीघ्र सुधारात्मक कदम उठाने होंगे. ऐसा करने में विफल रहने पर महंगाई की आग मोदी सरकार को बहुत महंगी पड़ेगी.’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को पेट्रोल और डीजल की कीमत समेत महंगाई को कम करने के लिये कदम उठाना शुरू करना होगा.  योग गुरु ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करना लोगों का ‘मौलिक अधिकार’ है. रामदेव ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन शुरू करके और कोई बड़ा घोटाला नहीं होने देकर उन्होंने ‘अच्छा काम’ किया है. उन्होंने कहा कि सरकार को पेट्रोल और डीजल को माल एवं सेवा कर के दायरे में लाना चाहिए और उन्हें इसे सबसे निचली श्रेणी में लाना चाहिये क्योंकि लोगों की जेब खाली हो रही है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...