Breaking News:

पत्थरबाजों के खिलाफ बंदूकों का मुंह खोल दिया इजराइल ने 3 पत्थरबाज फिलिस्तीनी हमेशा के लिए हुए खामोश और बाकी भाग निकले

इस्लामिक आतंक के खिलाफ हमेशा से आक्रामक रुख अख्तियार करने वाला इजराइल एक बार फिर से फिलिस्तीनी पत्थार्बाजों पर कहर बनकर टूटा है तथा 3 फिलिस्तीनी उन्मादियों को मार गिराया है. प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार, ग़ज़्ज़ा को अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी क्षेत्र से अलग करने वाली सीमा बाड़ के निकट फ़िलिस्तीनियों और इस्राईली सैनिकों के बीच टकराव में 3 फ़िलिस्तीनी उन्मादी इजराइली सेना की बंदूकों से निकली गोली का शिकार हुए तथा जहन्नुम रवाना हो गये.

गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी बयान के अनुसार, शुक्रवार को नाकाबंदी से घिरे गाजा के जबालिया शहर के पूरब में ज़ायोनी सैनिक ने एक 12 साल के फ़िलिस्तीनी किशोर के सिर पर गोली मार दी जिससे वह मारा गया. गगाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ़ अलक़द्रा ने बताया कि बुरैज शरणार्थी कैंप के पूरब में ज़ायोनी सैनिक की गोली में 21 साल का मोहम्मद शक़ोरा की मौत हो गयी. गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने आपने बयान में कहा कि इजराइली सेना की गोलीबारी में तीसरे मृतक की पहचान हानी रम्ज़ा अफ़ाना बतायी गयी जो 21 साल के थे। वह रफ़ह में शहीद हुए. शुक्रवार को हुए टकराव में अनेक फ़िलिस्तीनी घायल भी हुए हैं जिनमें बच्चे भी हैं.

आपको बता दें कि गाजा की सीमा बाड़ के निकट 30 मार्च से स्थिति तनावपूर्ण चल रही है. इस दिन से फिलिस्तीनी इजराइल के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. नक्बा दिवस की 70वीं बर्सी की पूर्व संध्या 14 मई को ग़ज़्ज़ा में टकराव अपने चरम पर था. 14 मई को अमरीका ने अपने दूतावास को तेल अविव से अतिग्रहित बैतुल मुक़द्दस स्थानांतरित किया. 30 मार्च से अब तक इजराइली सैनिकों की फ़ायरिंग में लगभग 175 फ़िलिस्तीनी मारे गये हैं और 19000 के क़रीब घायल हुए हैं. इजराइल का कहना है कि उसे प्रदर्शन से कोई आपत्ति नहीं है लेकिन अगर इसका प्रभाव इजराइल की एकता अखंडता पर पड़ेगा तो इजराइल की सेना उसका जवाब गोली से देगी.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW