पद संभालते ही एक्शन पर एक्शन ले रहे है योगी, सचिव और प्रमुख सचिवों को संपत्ति का ब्यौरा देने का दिया आदेश

नई दिल्ली : यूपी में योगी युग की शुरूआत हो चुकी है। संकल्प के पथ पर चलने वाले योगी सीएम की कमान संभालने के बाद एक्शन मोड में नज़र आ रहे है। सुबह से आ रही आहटों से ये साफ हो गया है कि योगी आदित्यनाथ किसी को भी नहीं बख्शने वाले। चाहे वो मंत्री हो, नेता हो या कोई अफसर।

पहले दिन ही योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों की क्लास ली। योगी आदित्यनाथ ने प्रधान सचिवों और अलग-अलग विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की। लोकभवन में सीएम योगी आदित्यनाथ ने सूबे के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में सभी अधिकारियों को योगी ने खड़े होकर ईमानदारी स्वच्छता और स्पष्टता की शपथ दिलाई। साथ ही आगे के रोड मैप के बारे में सभी अधिकारियों से चर्चा कर सभी को अपनी सम्पत्तियों का ब्योरा देने के लिए कहा।

इसी के साथ योगी सरकार ने साफ कर दिया कि भ्रष्टाचार के मामलों को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। गौरतलब है कि इससे पहले लखनऊ के गेस्ट हाउस में सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के बीच मंत्रियों के विभागों के बंटवारे के लिए बैठक हुई। बताया जा रहा है कि ह्रदयनाथ नारायण दीक्षित को विधानसभा का स्पीकर बनाया जा सकता है। वहीं, दोनों डिप्टी सीएम को वित्त और गृहविभाग मिल सकता है।

Share This Post