इस मजार के खिलाफ उमड़ा पूरा इलाका… सबने कहा- “कार्यवाही हो क्योंकि जीना हुआ हराम”

देश की राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में जहाँ अवैध मस्जिद के खिलाफ हिन्दू समाज आंदोलनरत है तथा इसके बाद गुरुग्राम नगर निगम प्रशासन ने अवैध रूप से बनाई गयी मस्जिद को सील कर दिया है. गुरुग्राम जैसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के महराजगंज से सामने आया है जहाँ एक मजार के खिलाफ लोग सड़कों पर उतर आये हैं. ग्राम सभा गनेशपुर के ग्रामीणों ने सदर तहसील के अंतर्गत सदर कोतवाली का घेराव किया तथा मजार व मजार की आड़ में वहा अभद्रता करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की. ग्रामीणों का ये भी आरोप है कि पुलिस भी इस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही है, इसी कारण वह लोग सड़क पर आन्दोलन करने को मजबूर हैं.

ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम सभा के टोला तुलसीपुर स्थित एक मजार पर हर शाम को कुछ असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लग जाता है. जो देर रात तक यहां तेज आवाज में लाउडस्पीकर बजाते हैं।\. इससे न सिर्फ बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है बल्कि दिनभर मेहनत-मजदूरी करने वाले लोगों की नींद भी खराब होती है. ये न सिर्फ यहां पर हुड़दंग मचाते हैं बल्कि सड़क के दोनों तरफ गंदगी भी मचाते है. ग्रामीणों का कहना है कि अगर कोई इन्हें ऐसा करने से रोकता है तो ये असामाजिक तत्व मिलकर उसकी पिटाई पर उतारू हो जाते है. शनिवार की शाम को मंगरू ने यहां पर एक युवक को सड़क किनारे शौच करने से मना किया तो उसने बुरी तरह से मंगरू की पिटाई कर दी. उसकी चिल्लाने की आवाज सुनकर जब ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो उन्होंने इस संबंध में पुलिस को सूचित किया. इस पर पुलिस ने पीटने वाले को गिरफ्तार करने की बजाय उल्टा मंगरू को ही हिरासत में ले लिया.

आरोपी के बजाय मंगरू के खिलाफ पुलिस की इस कार्रवाई से नाराज ग्रामीणों ने शनिवार को सदर कोतवाली का घेराव कर उसे छोड़ने की मांग की और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आवाज उठाई.  गुस्साएं ग्रामीणों ने दोपहर 12 बजे तक जीएम मार्ग पर जाम लगाया और पुलिस से मंगरू को छोड़ने के लिए कहा. प्रदर्शन करने वालों में पूर्व प्रधान समेत कई ग्रामीण मौजूद थे. उनका कहना था कि पुलिस इन असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करें और ग्रामीणों को इससे निजात दिलाए अन्यथा वह बड़े पैमाने पर प्रदर्शन को बाध्य होंगे.

Share This Post