ग्रेटर नॉएडा में बांग्लादेशियों ने किया वो कुकृत्य जिसमें निशाने पर आईं हिन्दुस्तानी बेटियां

देश की तथाकथित सेक्यूलर राजनीति का अप्रत्यक्ष समर्थन पाकर बांग्लादेशी घुसपैठिये भारत में किस कदर अपना संक्रमण फैला रहे हैं, इसका उदाहरण उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नॉएडा में देखने को मिला जहाँ नोएडा पुलिस ने एक नाबालिग लड़की को बहला-फुसला कर ले जा रहे दो बांग्लादेशियों को गिरफ्तार किया है. साथ ही नाबालिग लड़की को भी सकुशल बरामद कर लिया गया है. पुलिस पकड़े गए आरोपियों के बाकी साथियों की तलाश कर रही है. अभी तक घुसपैठियों की आतंकी घटनाओं में संलिप्त होने की खबरें आती थी लेकिन अब इन आक्रांताओं के निशाने पर भारत की बेटियां हैं.

बताया गया है कि दोनों बांग्लाददेशी घुसपैठिये पिछले 6 साल से छिपकर रह रहे थे. दादरी थाने में कुछ दिन पहले एक नाबालिग के अपहरण का मुकदमा दर्ज हुआ था जिसकी पुलिस लगातार छानबीन कर रही थी. पुलिस को सूचना मिली कि दोनों आरोपी नाबालिक को बहला-फुसलाकर ले जा रहे हैं, तभी पुलिस ने स्टेशन से दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. सूत्रों के अनुसार दोनों इस नाबालिग को ले जाने के बाद कहीं बेचने के फिराक में थे. पुलिस की पूछताछ में पता चला कि दोनों बांग्लादेशी पहले दिल्ली में रहा करते थे, जहां से वह दादरी कोतवाली क्षेत्र में आकर पिछले 6 साल से रहने लगे थे तथा किसी कार वर्क शॉप में काम करते थे ताकि किसी को उनके बारे में पता ना चल सके. पुलिस इनके बारे में और जानकारी जुटा रही है कि वो किस वारदात को अंजाम देने के लिए आए हुए थे.

पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि पकड़े गए दोनों बांग्लादेशियों के पास ना तो पासपोर्ट था और ना ही इंडिया में आने का वीजा था. पूछताछ में इन्होने अपने नाम बाबू और राजू पुत्र शाहजहां बताया है. आरोपियों को धारा 363, 366, 376, 120B 14 विदेशी अधिनियम के तहत कार्रवाई कर जेल भेज दिया गया है. पुलिस के आला अधिकारियों का कहना है कि पकड़े गए दोनों बांग्लादेशी जिस मकान में रह रहे थे, उस मकान मालिक के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी.

Share This Post