जिसे आगरा वाले समझते थे गरीब कबाड़ी वो पुलिस पर भी पड़ गये भारी… औरतें तक दिखी पत्थर बरसाते

कहने को तो शानू अंसारी एक गरीब कबाड़ी था तथा जो इधर उधर से दिनभर कबाड़ा इकट्टा करता था तथा उसे बेचकर अपने परिवार का गुजरा करता था. लेकिन शायद शायद शानू की वास्तविक हकीकत क्या थी, उससे न तो आगरा वाले परिचित थे और न ही वहां की पुलिस. शानू की हकीकत उस समय सामने आयी जब मामूली बात को लेकर शानू तथा उसके परिचित न सिर्फ स्थानीय लोग बल्कि पुलिस बल पर भी भारी पड़ गये. शानू अंसारी के उन्मादी रूप को देखकर हर कोई दंग रह गया.

मामला उत्तर प्रदेश के आगरा प्रकाश नगर का है जहाँ 250 रुपये के लेनदेन के विवाद में दो पक्ष आमने- सामने आ गए, उनमें मारपीट के बाद पथराव हो गया. सांप्रदायिक तनाव की सूचना पर फोर्स दौड़ गई लेकिन उन्मादी पुलिस बल पर भी भारी पड़ गये. खबर के मुताबिक़, प्रकाश नगर निवासी रणवीर कबाड़े का कारोबार करता है. मोहल्ले का ही शानू अंसारी फेरी लगाकर कबाड़ा खरीदता है तथा इसके बाद रणवीर को बेचता है. शानू नेणवीर से शनिवार रात को 250 रूपये मांगे तो रणवीर ने सुबह देने की बात कही जिस पर शानू भड़क गया तथा मारपीट करने लगा.  देखते ही देखते शानू के साथियों ने भीषण हमला कर दिया.

शानू तथा उसके साथियों के घर की महिलाएं छतों पर खड़ी थीं. उन्होंने ईंट- पत्थर फेंकने शुरू कर दिए. इससे क्षेत्र में अफरातफरी मच गई. लोगों ने घरों में छिपकर खुद को बचाया. कई लोगों को पत्थर लगे. किसी ने पुलिस को सांप्रदायिक तनाव की सूचना दी. इस पर तीन थानों की पुलिस पहुंच गई. पुलिस के पहुंचने पर उन्मादी पथराव करते रहे, जिसके बाद पुलिस ने बल प्रयोग करके बड़ी मुश्किल से हालात काबू किये. इंस्पेक्टर का कहना था कि झगड़े में कुछ लोगों की गिरफ्तारी हुई है तथा कार्रवाई की जा रही है.

Share This Post

Leave a Reply