मॉर्डन लड़कीं जिद कर रही थी पति से शिखा कटवाने की.. पति बोला – “तलाक मंजूर, पर संस्कार नही त्याग सकता”


जब उसकी पत्नी ने बार बार उस पर शिखा(चोटी) काटने का दवाब बनाया तो पति ने साफ़ कर दिया कि वह आख़िरी सांस तक तो चोटी नहीं क्तायेगा तथा उसकी चोटी मरने के बाद उसके साथ ही जायेगी. फिर भी उसकी मॉडर्न पत्नी नहीं मानी तथा धमकियां देने लगी तो पति ने भी कह दिया कि उसको तलाक मंजूर है लेकिन वह अपने संस्कारों को नहीं त्याग सकता है. अब ये मामला फैमिली कोर्ट में पहुँच गया है.

एक ऐसा लड़ाकू विमान जिसे सिर्फ भारत को बेचेगा अमेरिका.. विदेश नीति की बड़ी सफलता

मामला मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल का है. फैमिली कोर्ट में दाखिल केस में पत्नी का कहना है कि चोटी रखने के कारण पति गंवारों की तरह दिखाई देता है. उसके मायके वाले पति का मजाक उड़ाते हैं, उसकी मित्र उसके पति को पंडित ही कहती हैं जिससे उसे काफी अपमानित होना पड़ता है.जबकि पति का कहना है कि उसने मन्नत रखी है कि वह चोटी रखेगा, किसी भी हालात में चोटी नहीं कटायेगा बल्कि यह उसकी मौत के साथ ही जाएगी. वह आधुनिकता की आंधी में अपने संस्कारों को नहीं त्याग सकता है.

1 मुसलमान ने फेसबुक पर सिर्फ इतना लिखा था – “आज हँस लो, कल रोना पड़ेगा” .. उसके बाद जो हुआ वो किसी ने सोचा भी न था

बता दें कि पति एक्जीक्यूटिव इंजीनियर है. पत्नी का कहना है कि इंजीनियर होने के बाद भी उसका पति चोटी रखता है तो वह उसके स्टैण्डर्ड का नहीं बल्कि गंवार टाइप का दिखता है. पत्नी खुद एमबीए पास है. काउंसलर सरिता राजानी ने बताया कि महिला की शादी 2 फरवरी 2016 को हुई थी. शादी के 2 साल तो सब कुछ अच्छा रहा. दो साल बाद उसके सास और ससुर की मौत सड़क हादसे में हो गई थी. मृत्यु के कर्मकांड के दौरान पति का मुंडन हुआ. उसमें पति ने धार्मिक मान्यता के अनुसार शिखा यानी चोटी रख ली.

टीपू सुल्तान के जयकारे लगाती कांग्रेस ने अब राजस्थान में वीर सावरकर के खिलाफ लिखवाया ये सब.. आक्रोशित हुआ हिन्दू समाज

इसके बाद जब पति ने चोटी नहीं कटाई तो उसने टोकना शुरू किया तथा चोटी काटने का दवाब बनाने लगी. महिला ने काउंसलर को बताया कि पति को चोटी कटाने कहते तो वह बात को टाल जाते हैं. चोटी रखने से सब पति को पंडितजी कहने लगे. इस बात को लेकर उनमें झगड़ा बढ़ता गया. महिला ने बताया कि पति ने जिद ठान ली है कि वह कभी अपनी शिखा नहीं कटाएगा. उसकी चोटी मौत के बाद शरीर के साथ जलेगी.

कश्मीर में सेना पर पत्थरों की बौछार.. बुरी तरह घायल हुए राष्ट्र के 50 रक्षक.. तथाकथित सेकुलरिज़्म वाले पत्थरबाजों के साथखड़े

पति का कहना है कि पत्नी को सारे सुख हैं. वह उसकी चोटी के पीछे पड़ी है. पति का कहना है कि उसने माता-पिता की मौत के बाद संकल्प लिया था कि वह चोटी रखेगा. यह उसकी धार्मिक मान्यता है. वह अपने परिवार में इकलौता बेटा है. उसे सभी मान्यताओं का पालना करना पड़ता है. उसका कहना है कि इससे उसे सुख भी मिलता है. इसको लेकर पत्नी छह माह से मायके में है. पत्नी की जिद है कि सिर पर चोटी रखो या तलाक दो. लेकिन अगर तलाक ही इसका उपाय है तो  वह तलाक दे देगा लेकिन अपने संस्कार नहीं त्याग सकता, वह चोटी नहीं कटायेगा. इस मामले में दूसरी काउंसलिंग कराई जा रही हैं. कोर्ट को उम्मीद है मामले में काउंसलिंग के माध्यम से समझौता हो जाएगा.

सेकुलर लोगों के शहर में मज़हबी उन्माद.. दिल्ली में जहांगीर खान और मोहम्मद आलम ने मिल कर चाकुओं से गोद डाला एक पिता को जो कर रहा था बेटी से छेड़छाड़ का विरोध

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...