दलित युवक की हत्या के तार जुड़ रहे हैं पाकिस्तान की ISI से. हत्यारे का नाम अब्दुल, बीच में है कांग्रेस का नेता और निशाने पर थे सवर्ण हिन्दू

ये वो मामला था जिसमे एक ऊंची जाति की कही जाने वाली एक लड़की ने एक दलित युवक को अपना जीवन साथी बनाया था और उसके बाद थोड़े दिन में उसके पति की हत्या हो जाती है . शुरुआती ख़बरों को सिर्फ ऐसे दिखाया गया कि ये सवर्ण जाति एक एक पिता का अपनी बेटी को प्यार करने वाले एक दलित को दिया गया दंड है और इस मुद्दे को हाथो हाथ उछाला जाने लगा . पर जब सच सामने आना शुरू हुआ तो कई लोगों के रोंगटे खड़े हो जायेंगे . इस मामले में न सिर्फ भारत की राजनीति शामिल थी अपितु सीधे सीधे भारत में अनगिनत लाशें बिछवा चुकी पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी ISI तक की दस्तक आ रही है .

ज्ञात हो कि अतिचर्चित रहे तेलंगाना ऑनर किलिंग के मामले में एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है जिसमे कई चेहरे बेनकाब हो रहे हैं । यहाँ आनर किलिंग का नाम दे कर दलित सवर्ण की राजनीति का केंद्र बनाये जा रहे दलित युवक प्रणय की हत्या के मामले में पुलिस ने जिन 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, उनमें मोहम्मद अब्दुल बारी नामक आरोपी को भी शामिल है जिसका पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और गुजरात के पूर्व गृहमंत्री हरेन पांड्या की हत्या तक से सीधे सीधे कनेक्शन जुड़ा है। यद्दपि इस मामले में वो पिता भी दोषी है जिसने अपनी ही बेटी के सुहाग को उजाड़ने के लिए एक करोड़ की सुपारी भी दी थी।

अब तक हुई जांच में इस मामले में ये निकल कर आ रहा है कि इस केस में एक स्थानीय कांग्रेस नेता मोहम्मद करीम भी शामिल है जिसको पुलिस ने हिरासत में लिया है। जांच कर रही पुलिस का कहना है कि अब्दुल बारी नलगोंडा के आईएसआई संदिग्ध असगर अली गैंग का सदस्य है। इन दोनों को 2003 में गुजरात के पूर्व गृहमंत्री हरेन पांड्या की हत्या के केस में सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। अब्दुल बारी को रिहा कर दिया गया था लेकिन असगर के खिलाफ अभी ट्रायल जारी है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, असगर के तार आईएसआई से जुड़े हैं।  बताया ये भी जा रहा है कि कांग्रेस नेता मोहम्मद करीम के जरिए ही राव ने बारी से संपर्क किया था। जबकि 50 लाख रुपए इस हत्या को अंजाम देने के लिए पहले ही दिए जा चुके थे।  दलित , सवर्ण , ISI , कांग्रेस इन सबके शामिल होने के बाद ये जांच अभी और किस किस को अपने दायरे में लेगी अब इस पर सबकी नजर है . हर कोई शासंकित हो कर ये जान रहा है कि देश में हिन्दुओ को ही दलित और सवर्ण या छोटा बड़ा के नाम पर लड़ाने की साजिश किस जगह से चल रही है और भारत में उसको कौन संचालित करवा रहा है . अपने नेता की गिरफ्तारी और ISI से सम्बन्धो पर फिलहाल कांग्रेस अभी खामोश है ..

Share This Post