मजार बन चुकी थी मासूम बच्चो के कुकर्म का अड्डा.. 10 रूपये में होता था कुकर्म जबकि वहां जाने वाले तमाम लोग थे हिन्दू समुदाय के

ये वो मज़ार है जहाँ सबसे ज्यादा हिन्दू आते थे . वहां पर बता दिया गया था कि हर मुराद पूरी होती है . लेकिन वहां होता था कुछ और ही .. अभी कुछ मदरसों में बच्चो से कुकर्म का मामला गूँज ही रहा था कि अब एक मज़ार आ गयी है .. ये मज़ार है उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में जहा पर एक मासूम बच्चे के साथ अप्राकृतिक दुष्कर्म की घटना ने समाज का पूरा ध्यान खींच लिया है .. ये कुकर्म करने वाला कोई और नहीं बल्कि वही मुजावर है जिस से सब आशीर्वाद मांगने आया करते थे .

उत्तर प्रदेश के ही हरदोई जिले के सण्डीला थाना क्षेत्र के एक गांव से बाराबंकी के किसी मदरसे में पढ़ने की गरज से निकला एक किशोर बाराबंकी रेलवे स्टेशन के नजदीक मजार पर रहने वाले एक मुजावर की हवस का शिकार हो गया. पीड़ित किशोर का आरोप है कि वह बुधवार को अपने घर से पढ़ने के लिए बाराबंकी आया था. स्टेशन पर उतरा तो बारिश हो रही थी, लिहाजा पानी से बचने के लिए वह बगल में बनी मजार पर चला गया जहां उसकी मुलाकात मुजावर अहमद अली से हुई.आरोप है कि अहमद अली ने उसको 10 रुपये खाना खाने के लिए दिए फिर उसको अंदर कमरे में ले गया उससे पैर दबावाये और उसके साथ कुकर्म की वारदात को अंजाम दिया. थानाध्यक्ष रवींद्र कुमार सिंह को मामले से अवगत कराया. मामले की गम्भीरता देखते हुए आनन-फानन में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर किशोर को मेडिकल के लिए भेज दिया है. थानाध्यक्ष ने बताया कि इस मामले में पाक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपी मुजावर की गिरफ्तारी की जा रही है.

ये पूरा मामला बाराबंकी के रेलवे स्टेशन से सटी हुई एक मज़ार का है. पीड़ित लड़के की अगर माने तो वो बाराबंकी के रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से आया था. ट्रेन से उतरने पर वहां जोरदार बारिश शुरू हो गयी और वो मज़ार देख कर पानी से बचने के इरादे से मज़ार में जाकर बैठ गया. तभी वहां के मुजावर की नज़र बच्चे पर पड़ी और उसने उसे दस रुपये कुछ खाने के लिए दिया. लड़का जब खा पीकर वापस आया तो मुजावर ने लड़के से अपना पैर दबाने को कहा, जिसे लड़के ने खुशी-खुशी स्वीकार कर लिया और उसके पैर दबाने लगा. लड़के द्वारा पैर दबाने की बात मानने के बाद वह अपने असली रंग में आ गया. मुजावर ने लड़के को 3 सौ रुपये देकर उसकी बात मानने को कहा. जिसपर लड़के ने इनकार कर दिया. इस पर मुजावर का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया. मुजावर ने मज़ार के दरवाजे को बन्द कर लिया और लड़के के साथ कुकर्म किया.

Share This Post

Leave a Reply