Breaking News:

“मुझे कोई कितना भी डरा ले , लेकिन मेरी नजर में गौहत्यारे रकबर को मारने वाले भगत सिंह से कम नहीं”… आखिर कौन है ये ?

राजस्थान के अलवर का गौतस्कर रकबर खान हत्याकांड उस समय फिर सुर्ख़ियों में आ गया जब रकबर खान की ह्त्या में आरोपी बनाये गये गौरक्षकों की तुलना अमर शहीद भगत सिंह, राजगुरु तथा सुखदेव से की गयी. कहा गया कि कि गौहत्यारे रकबर की ह्त्या के आरोप में जो लोग अलवर की जेल में बंद हैं वह हमारे नायक हैं..हमारे लिए वह आज के भगत सिंह, राजगुरु तथा सुखदेव हैं. अब आप ये जरूर जानना चाहेंगे कि आखिर रकबर खान के हत्यारोपियों की तुलना अमर शहीदों से किसने और क्यों की? वो कौन है जो रकबर के हत्यारोपियों को भगत सिंह बता रहा है तथा चीख चीख कर कह रहा है कि चाहे कोई कुछ भी कहे लेकिन में ये मानता हूँ कि जो अलवर की जेल में बंद हैं वो हमारे भगत सिंह हैं?

3 बच्चों की मां भी नहीं है सुरक्षित अब.. हवसी कमरुज्जमा ने दिखाई भारत में भी तालिबानी दरिंदगी

आपको बता दें कि रकबर खान हत्याकांड में पुलिस ने जो चार्जशीट तैयार की है उसमें गोरक्षक नवलकिशोर शर्मा की भूमिका की जांच चल रही है. गौरक्षक नवल किशोर शर्मा ने पुलिस पर जबरन निर्दोष लोगों को फंसाने का आरोप लगाया है. उन्होंने जेल में बंद आरोपियों की तुलना शहीदों से की है. उन्होंने कहा है कि हिन्दू एकजुट नहीं हुआ तो इसके परिणाम सभी को भुगतना पड़ेगा. रामगढ़ में गोतस्कर रकबर की हुई हत्या के मामले में मुख्य गवाह नवल मिश्रा ने गोतस्कर रकबर की हत्या के मामले में बंद तीनों आरोपीयों की तुलना शहीदों से की है. उन्होंने कहा कि आज हमारे तीनों भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू राजस्थान के अलवर जिले की जेल में बंद हैं और हम उनकी मौत का नाजारा देख रहे हैं. ने कहा कि रकबर कांड के समय मैं वहीं था. मुझ पर दबाब बनाकर केस दर्ज किया जा रहा है. लेकिन मुझे डर नहीं है. राजस्थान सरकार धर्म के काम को करने वाले लोगों को कानून की आड़ में बलि का बकरा बना कर जेलों में बंद कर रही है और गोतस्कर खुले धूम रहे हैं.

घोषणा पत्र– कांग्रेस ने 370 नहीं हटाने का किया था वादा तो बीजेपी बोली- किसी भी हालात में हटायेंगे 370 तथा 35A

गौरतलब है कि गोविन्दगढ़ कस्बे में विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल के संयुक्त तत्वाधान में हिन्दू धर्म सभा का आयोजन किया गया। धर्म सभा में पुरूषों के साथ-साथ महिलाए भी आईं. महिलाओं ने पुलिस और सरकार पर निर्दोष लोगों को फंसाने का आरोप लगाया और निर्दोषों की रिहाई के लिए आंदोलन की बात कही. र्म सभा में आए सभी वक्ताओं ने रामगढ़ में गोतस्कर रकबर की हत्या के मामले में बंद गोरक्षकों को छुड़वाने और गोविन्दगढ़ में गोकशी के मामले में शेष 65 आरोपियों की गिरफ्तारी का मुद्दा उठाया. कई वक्ताओं ने अलवर जिले में बढ़ते हुए लव जिहाद के बारे में चिंता जाहिर की. लोगों ने कहा कि अलवर जिले में गोतस्कारी तो हो ही रही है लेकिन इसके अलावा लव जिहाद भी तेजी से फ़ैल रहा है तथा इसके लिए अगर हम अब भी नहीं जागे तो आने वाला समय हम सबके लिए काफी अधिक खतरनाक होने वाला है.

आतंक के आकाओं को सुंघा दी गई है जमीन.. जो घूमा करता था कश्मीर में अब वही मीरवाइज पेश होगा दिल्ली में

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW