सत्ता के संरक्षण में विपक्ष का नरसंहार … ममता राज में भाजपा नेता की ह्त्या में तृणमूल कनेक्शन

लोकतांत्रिक राजनीति में आरोप प्रत्यारोप एक आम बात है लेकिन जब सत्ताधारी दल विपक्ष से इतना ज्यादा भयभीत हो जाए कि वह विपक्ष का नरसंहार करने लगे तो उसको लोकतंत्र तो कतई नहीं कहा जा सकता बल्कि उसे वो तानाशाही कहा जाएगा जहाँ आप सत्ता के खिलाफ बोलना तो दूर सोच भी नहीं सकते. आश्चर्य की बात ये हैं कि विपक्ष का नरसंहार उस राजनैतिक दल के शासन वाले राज्य में हो जो खुद को न सिर्फ अभिव्यक्ति की आजादी का सबसे बड़ा पैरोकार बताता है बल्कि लोकतंत्र का सबसे बड़ा रक्षक भी होता है तो उसको क्या कहा जाए? आपको बता दें कि ममता शासित पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता की ह्त्या का तृणमूल कनेक्शन सामने आया है.

ज्ञात हो कि पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में इसी साल जून के महीने में भाजपा के एक दलित कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई थी और हत्या के बाद उसका शव पेड़ से लटका दिया गया था. इसके बाद भाजपा ने तृणमूल की काफी आलोचना की थी. इसके बाद मामले की जांच सीआईडी कर रही थी. लेकिन अब इस मामले में सीआईडी ने सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के नेता सृष्टि धार के बेटे संदीप महतो को गिरफ्तार किया है. अभी तक इस मामले में तीन लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. जिस दलित कार्यकर्ता की हत्या हुई थी उसकी पहचान त्रिलोचन महतो के रुप में हुई थी. तब भी हत्या का सीधा आरोप टीएमसी पर लगा था लेकिन तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा के इन आरोपों को खारिज करते हुए सभी पहलुओं से जांच की मांग की थी. लेकिन अब CID जांच में तृणमूल की कलई खुल गयी है तथा TMC नेता का बेटा गिरफ्तार हुआ है.

बता दें कि त्रिलोचन का शव बलरामपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में स्थित जंगल के पेड़ से लटका हुआ मिला था। यहीं नहीं त्रिलोचन के शव पर एक पेपर भी चिपकाया गया था जिस पर लिखा था, ‘भाजपा के लिए काम करने का ऐसा ही हश्र होगा.’ पुलिस को शव के पास से एक नई साइकिल के साथ मोबाइल, पर्स सहित त्रिलोचन का और भी सामान मिला था. इसके बाद इसी तरह का मामला पुरुलिया के बलरामपुर में भी आया था जहां दाभा गांव में 32 साल के भाजपा कार्यकर्ता दुलाल कुमार का शव इलेक्ट्रिक टावर से लटका मिला था तथा इसका आरोप भी तृणमूल कांग्रेस पर ही लगा था.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW