आतंकियों के 7 आका उगलेंगे वो सारे पाप जो उन्होंने पिछले की सालों में किया…


अलगाववादी नेताओं से जब उनके पाकिस्तान कनेक्शन या फिर आतंकवाद से कनेक्शन के मुद्दे पर सवालात किये जाते हैं तो वह खुद को सही साबित करने की हर संभव कोशिश करते हैं। लेकिन पाकिस्तान के लिए उनका प्यार उस वक्त सामने आ जाता है जब वो किसी आतंकी के जनाजे में शामिल होते है या फिर उसकी मौत के शौक में कश्मीर बंद का ऐलान करते हैं। हमेशा से आतंकवाद कनेक्शन से इंकार करते आये कश्मीरी अलगाववादियों को NIA ने टेरर फंडिंग केस में गिरफ्तार किया है।

एनआईए ने जिन 7 अलगाववादियों नेताओं को गिरफ्तार किया है उनमें- बिट्टा कराटे, नईम खान, अलताफ, अयाज़ अकबर, पीर सैफुल्ला, मेराजुद्दीन, शाहिद उल इस्लाम है। जिन्हें दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया और सभी अलगाववादियों को 10 दिन की रिमांड पर भेज दिया गया है। पकडे गए अलगाववादी नेताओं में से अल्ताफ शाह हुर्रियत के नेता उस सैयद अली गिलानी का दामाद भी है जो कश्मीर को भारत का नहीं धोखेबाज़ पाकिस्तान का हिस्सा मानता हैं।
बता दें कि पकडे गए अलगाववादी नेताओं में से नईम खान वो है जिसने पाकिस्तान से टेरर फंडिंग लेने का खुलासा किया था। नईम के इस खुलासे के बाद से ही हुर्रियत नेताओं की पोल खुल गई थी, जिसके बाद हुर्रियत नेता सैयद अली गिलानी ने नईम खान को पार्टी से निलंबित कर दिया था। यह अलगाववादी नेता कश्मीर में बने हुए हालातों का दोष भारत और भारतीय सेना पर थोपते हैं लेकिन खुद पाकिस्तान से पैसे लेकर यह कश्मीर में आतंक फ़ैलाने का काम करते हैं।
भारत हमेशा से कश्मीर को अपना हिस्सा मानता हैं और हर सुविधा मुहैया करवाता है जो देश के बाकि राज्यों को दी जाती हैं। लेकिन कश्मीर के अलगाववादी नेता कश्मीर की जनता को भारत के खिलाफ भड़काने की हर मुमकिन कोशिश करते हैं और कश्मीर को आतंक का डेरा बनाने में तुले हुए हैं। 

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share