पहले जितना मिलता था केवल एकलाख को अब उतना मिला सेना के बलिदानी को. स्वागतयोग्य कार्य जिसकी आप भी करेंगे तारीफ…

पिछले माह नागालैंड के मोन जिले में उल्फा उग्रवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान वीरगति को प्राप्त हुए मेजर डेविड मानलून के परिजनों को सेना ने सेवांत हितलाभ के तहत गुरुवार को 75 लाख रुपये का चेक दिया है। साथ ही मेजर मानलून के परिवार को अनुग्रह राशि के तौर पर 40-50 लाख रूपए मिलेंगे, जिसमें केन्द्र सरकार की तरफ से मिलने वाला अनुग्रह राशि और मेघालय सरकार की तरफ से मिलने वाले 7.5 लाख रुपए शामिल है।

इस दौरान लेफ्टिनेंट जनरल डी एस आहूजा ने बताया कि वह उनकी शहादत को सलाम करते है। प्रादेशिक सेना के 164वें ब्रिगेड के अधिकारी के तौर पर उन्होंने नागालैंड में उग्रवादियों के खिलाफ कार्रवाई में अदम्य साहस दिखाते हुए वह शहीद हुये। इस मौके पर मेजर डेविड की मां मान्नुअम निअंग ने कहा कि मेरे बेटे ने जो किया अगर हम उसका अनुसरण करेंगे तो पूरे देश में शांति होगी। मेरा बेटा एक हीरो की तरह शहीद हुआ है और मुझे उसकी शहादत पर फख्र है।
उन्होंने कहा कि मेजर मानलून प्रादेशिक सेना के 164वें ब्रिगेड के अधिकारी के तौर पर नागालैंड में उग्रवादियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की थी और उन उग्रवादियों से लोहा लेते हुए वीरगति को प्राप्त हो गए थे। मैं उनके शौर्य और साहस को सलाम करता हूं। बता दें कि 6 जून को उल्फा उग्रवादियों ने घात लगाकर सेना पर हमला किया था जिसके सेना ने इसका करारा जवाब दिया था। इस दौरान सेना ने तीन उग्रवादियों को मार गिराया था। साथ ही इस मुठभेड़ में मेजर डेविड वीरगति को प्राप्त हो गए थे। 
Share This Post

Leave a Reply