साहस क्या होता है ये बताया एक मुख्यमंत्री ने.. एलान किया- “रोहिंग्या ही नहीं, उन्हें भारत में लाने वाले भी होंगे गिरफ्तार”

लगातार दूसरी बार केंद्र की सत्ता में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने के बाद भारतीय जनता पार्टी के हौसले बुलंद हैं. न सिर्फ केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार बल्कि बीजेपी की राज्य सरकारें भी पार्टी के मूल एजेंडे के कार्यों को पूरा करने के प्रति सक्रिय नजर आ रही हैं. म्यांमार में बौद्धों तथा हिन्दुओं का नरसंहार कर भारत में घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुस्लिम आक्रान्ताओं को देश के बाहर करने के प्रति संकल्पित बीजेपी शासित मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने रोहिंग्याओं को लेकर बड़ा एलान कर दिया है.

मणिपुर के मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने एलान किया है कि सिर्फ रोहिंग्या ही नहीं बल्कि उन्हें भारत में घुसने में मदद करने वालों को गिरफ्तार किया जाएगा. उन्होंने कहा है कि भारत में रोहिंग्याओं को घुसने में मदद करने वाले लोगों की पहचान की जाए. मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने कहा है कि राज्य में इन लोगों को शरण देने वालों को भी पकड़ा जाए. मुख्यमंत्री ने यह बयान तब दिया है जब हाल ही में इंफाल के तुलिहल इंटरनेशनल एयरपोर्ट से 6 अवैध रोहिंग्या घुषपैठियों को पकड़ा गया है.ये सभी घुषपैठिए दिल्ली से इंडिगो एयरलाइन के द्वारा इंफाल पहुंचे थे और सभी के पास भारत का नकली आधार कार्ड व अन्य कागजात थे.

इनकी पहचान म्यांमार के रोहिंग्या मुस्लिमों के रूप की हुई है. मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने पेट्रियोट्स दिवस लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि इस घटना से सामने आया है कि ऐसे कई अवैध घुषपैठिए राज्य में शरण लिए हुए हैं तथा ये लोग अलग—अलग तरीकों से यहां घुषपैठ कर रहे हैं. उन्होंने स्थानीय निवासियों से अपील की है कि इन लोगों को यहां तक पहुंचने में मदद करने तथा यहां शरण देने वाले लोगों की पहचान कर उन्हें पकड़ना जरूरी है. यदि अवैध घुषपैठियों को नहीं पकड़ा गया तो आने वाले समय में मणिपुरी लोग गायब हो जाएंगे.

Share This Post