पहली के जीते जी दूसरा निकाह नहीं कर सकता था यूनुष.. अचानक उसकी नजर गई बंदूक पर


मजहबी लोगों में हवस की भूख इतनी बढ़ गई है कि इन्हें इसानियत से जरा भी प्रेम नहीं रह गया है. पति पत्नी का रिश्ता जो विश्वास का होता है मजहबी लोग अब उस रिश्ते को ही तार तार करते नजर आ रहे है. ये हवस की आग में इस कदर अंधे हो गए है कि इन्हे अपनी पत्नी की जरा भी परवाह नहीं है., परवाह तो दूर की बात बिमार पत्नी पर मजहबी ने पहले तो जुल्मों के पहाड़ गिरा दिए और फिर बिमार पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी.

क्योंकि वह अपनी पहली पत्नी के रहते निकाह नहीं कर पा रहा था तो उसने अपनी पहली पत्नी को ही मौत के घाट उतार दिया.
आपको बता दे कि मामला उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले का है. जहां पर मजहबी व्यक्ति पर दूसरी शादी का भूत इस कदर सवार था, कि उसने अपनी पत्नी की हत्या कर दी. उसकी पत्नी कैंसर जैसी भंयकर बीमार से जूझ रही थी, लेकिन उस व्यक्ति ने इसकी परवाह किए बगैर दूसरी शादी करने के लिए अपनी बीमार पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी.

बता दें कि हापुड़ जिले थाना धौलाना क्षेत्र के गांव बझैड़ाकलां में मृतक महिला तवस्सुम अपने मायके के पड़ोस में पति के साथ रहती थी. तवस्सुम पिछले काफी समय से कैंसर की पीड़ित थी, जिसके चलते दोनों में अक्सर झगड़ा होता रहता था. शुक्रवार रात मृतक महिला के पति युनूस ने तवस्सुम की तमंचे से गोली मारकर हत्या कर दी और शोर मचा दिया कि बदमाश घर में आ गए और लूटपाट करने के विरोध में उसकी तवस्सुम की हत्या कर दी. 

वहीं, जब पुलिस ने शक के आधार पर युनूस को गिरफ्तार किया और उससे कड़ी पूछताछ की तो उसने हत्या की बात कबूल की. फिलहाल, पुलिस ने महिला का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. साथ ही पुलिस ने उस हथियार को भी बरामद कर लिया है, जिससे हत्या की गई थी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share