Breaking News:

नए ट्रैफिक नियम में करना ही होगा चालान.. मंत्री के बेटे को छोड़ देने वाले दरोगा व 2 सिपाहियों का हुआ ये हाल

शायद इसे ही रामराज्य की संकल्पना की शुरुआत कहा जा सकता है जहाँ कानून आम जनता से लेकर VIP तक के लिए समान रूप से कार्य करता है. आप देश के केन्द्रीय मंत्री के बेटे हो तो क्या हुआ? अगर अपने कानून का उल्लंघन किया है तो आपके खिलाफ कार्यवाई होगी ही लेकिन अगर क़ानून के रखवाले आपको VIP होने के कारण छोड़ देते हैं तो वो कानून के रखवाले नपेंगे. यही हुआ है बिहार में जहाँ केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के बेटे अरिजीत की कार के कागजात की जांच ना करने को लेकर दरोगा समेत बिहार के तीन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई हुए सस्पेंड कर दिया है.

बताया जा रहा है कि जिस कार को केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अरिजीत चला रहे थे उसमें काले शीशे लगे थे. उस कार में केंद्रीय मंत्री के परिवार के अन्य सदस्य भी सफर कर रहे थे. पटना के कमिश्रर आनंद किशोर और ट्रैफिक एसपी डी. अमरकेश पुलिस की उस मुहीम की निगरानी कर रहे हैं जिसमें बड़ी संख्या में ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की गई है. रविवार को ये सभी अधिकारी राजधानी पटना के बेली रोड पर मौजूद थे.अरिजीत की गाड़ी को पुलिस ने बेली रोड पर रुकने का इशारा किया लेकिन केन्द्रीय मंत्री के बेटे की गाड़ी होने के कारण कोई पुलिसकर्मी गाड़ी तक नहीं गया और ना ही उनकी कार के कागजात की जांच की.

अरिजीत चौबे उसके बाद वहां से चले गए. जानकारी मिलने पर पटना कमिश्नर के निर्देश पर एसएसपी ने सब इंस्पेक्टर देवपाल पासवान, कॉन्स्टेबल दिलीप चंद्र सिंह और पप्पू कुमार को निलंबित कर दिया. पुलिस की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि पटना कमिश्नर ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि काले शीशे वाली गाड़ियों के पेपर्स हर हाल में चेक किए जाएंगे और इसमें गलती पाए जाने पर एक्शन लिया जाएगा. अरिजीत की कार के शीशे काले थे लेकिन पुलिसकर्मियों ने चेक नहीं किया, इसके बाद तीनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है.

दरअसल, मोटर व्हीकल एक्ट में किए गए संशोधनों के बाद ट्रैफिक नियम तोड़ने पर जुर्माने की राशि में अब 5 से 10 गुना तक की बढ़ोतरी हो चुकी है. ये एक्ट बिहार में भी लागू हो गया है और पुलिस सख्ती से वाहनों की चेंकिंग कर रही है. ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है. बिहार सहित अन्य राज्यों में नियमों का उल्लंघन करने पर भारी भरकम जुर्माना भी लगाया जा रहा है.

Share This Post