अपराध करने के बाद एक यूनिवर्सिटी में दी जाती थी उन्हें शरण… JNU के बाद और यूनिवर्सिटी के कुछ आये जांच के दायरे में

 जिले में ताबड़तोड़ हो रहीं लूट व स्नैचिंग की घटनाओं में शामिल चार शातिर अपराधियों को सिविल लाइन पुलिस ने दबोचा है। ये सभी वारदात को अंजाम देकर एएमयू के हॉस्टलों में छिप जाते थे। पुलिस ने अलग-अलग जगहों के सीसीटीवी फुटेज निकालकर उनकी पहचान करते हुए उन्हें दबोच लिया। उनके कब्जे से डेढ़ लाख की नगदी व तीन बाइक बरामद हुई हैं।

गिरफ्तार किए गए लुटेरे जैद आजम खान पुत्र मुशर्रफ खान की दोस्ती बिहार के रहने वाले एक एएमयू छात्र से है जो कि सर सैयद हॉल नार्थ में रहता है।

पुलिस को इस छात्र के किसी भी वारदात में शामिल होने के सबूत नहीं मिले हैं, लेकिन उसकी भूमिका की जांच हो रही है। उन्होंने बताया कि यह लोग एएमयू के आसपास ही सिविल लाइन, रामघाट रोड, मैरिस रोड आदि पर वारदातों को अंजाम देते और एएमयू कैंपस में प्रवेश कर जाते। किसी के पूछने पर स्वयं को एएमयू का छात्र ही बताते।

पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि वह लूट व छिनैती की घटनाओं को अंजाम देने के बाद एएमयू के हॉस्टल में छिप जाते थे।

वहीं कई बार नोएडा भी चले जाते थे। लूट की घटनाओं में शामिल तीन अन्य अपराधियों की तलाश जारी है। पकड़े गए शातिर लुटेरों में से एक पहले दुबई में काम करता था, वहीं दूसरा बीएससी का छात्र है।

एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने बताया कि थाना सिविल लाइन इलाके से पकड़े गए बदमाश लूट और चेन स्नेचिंग की वारदातों को अंजाम देने के बाद अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी (एएमयू) के एक हॉल में छिप जाया करते थे।  

Share This Post

Leave a Reply