वक्फ बोर्ड के बाद योगी के जांच दायरे में उससे भी बड़ा इस्लामिक स्थल… ये साहस सबके बस की बात नहीं

अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान की मुश्किलें बढ़ना शुरू हो गई है। दरअसल, योगी सरकार ने अब अखिलेश सरकार के दौरान बनी एक और योजना कब्रिस्तानों की चारदीवारी के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। वक्फ बोर्ड मामले की जांच सीबीआई करेगी, इसमें आजम खान पर भी आरोप लगे हैं। 
अखिलेश सरकार के दौरान अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री रहे आजम खान ने इस योजना को चलाया था। पांच साल में करीब 1200 करेाड़ रुपए इस योजना में खर्च किए गए। योजना के तहत पहले चार साल इस पर हर साल 200 करोड़ रुपए खर्च किए गए। वहीं पांचवे साल इसके लिए 400 करोड़ रुपए का बजट पास कराया गया। 
प्रदेश सरकार को राज्य के कई जिले से शिकायते मिली लेकिन किसी ने भी कोई एक्शन नहीं लिया। शिकायतों में पता चला है कि कब्रिस्तानों की चार दीवारी की गुणवत्ता जांचने के लिए डीएम, एसडीएम व तहसीलदारों की जिम्मेदारी तय की गई थी लेकिन किसी ने कभी कुछ नहीं किया। 
इसके बाद योगी सरकार ने इन शिकायतों को संज्ञान में लेते हुए अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित की। इस कमेटी के अध्यक्ष नागरिक उड्डयन विभाग के विशेष सचिव सूर्यपाल गंगवार होंगे, वहीं लोक निर्माण विभाग के चीफ इंजीनियर योगेंद्र कुमार गुप्ता व आवास एवं विकास परिषद के अधीक्षण अभियंता सुनील चौधरी इसके सदस्य होंगे।
Share This Post