Breaking News:

नगर में फिर चली अतिक्रमण हटाने की मुहिम, नेताओं ने प्रशासन के समक्ष दर्ज कराया विरोध

ललितपुर
शहर की प्रमुख मार्गों का हाल यह है कि वह दुकानदारों और व्यापारियों के किये गये
अतिक्रमण से गलियो में परिवर्तित हो गई है। नगर में इसको हटाने की मुहिम चलायी जा
रही है। यहां वाहन तो दूर पैदल निकलना दूभर होता जा रहा है दुकानदार दुकान में कम
बाहर ज्यादा सामान निकाल कर रखते हैं और फिर ग्राहको के वाहन जो दुकान के सामने ही
पार्क किये जाते है, ऐसी स्थिति बनती है कि वाहन लेकर निकलना तो दूर पैदल निकलना
भी दूभर हो जाता है। ये अतिक्रमण प्रशासन और नगरपालिका द्वारा हटाया भी गया।

बता
दें कि
 दो दिनों से जनपद मुख्यालय पर अतिक्रमण हटाने की मुहिम प्रशासन
दुवारा शुरू की गई और दुकान के बाहर किये गये अतिक्रमण और टीन सैड्स को हटाया जा
रहा है। इस कार्यबाही का जहां आम पव्लिक ने स्वागत किया है तो वही बर्षो से अतिक्रमण
करने वाले  दुकानदार विरोध पर उतर आये जहां
कुछ ऐसे भी व्यापारी नेता है जो प्रशासन की इस कार्यवाही का पालिका चुनावो में राजनैतिक
लाभ लेने की मंशा से विरोध कर दुकानदारों के हितेषी बनने का दाव खेलते नजर आ रहे
थे। उनका प्रयास तो अच्छा था लेकिन उनकी ये चालाकी काम नहीं आयी और उन्हें खली हाथ
वापस लौटना पड़ा।

वहीं,
भाजपा के महामंत्री जो बर्षौ से बीच चौराहे पर नाली के ऊपर अवैध रूप से पक्का
निर्माण किये बैठे है। लोग सत्ता की हनक पर प्रशासन के समक्ष दवंगई करने पर ऊतारू
हो गये और उनका साथ देने के लिये कुछ और भाजपा नेता भी अपनी नैतागिरी चमकाने मैदान
में आ गए।  इसके परिणाम स्वरूप प्रशासन
” किसी का तोडो किसी का छोडो” 
की नीति पर काम करते हुए  आगे बढता
रहा
, जो आम जनमानस में बहुत से प्रश्न  खडा कर गया है।

Share This Post