4 साल से जेल में बंद सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह की 5 साल की बेटी की पढ़ाई का पूरा खर्च उठाएंगे IPS अजय पाल शर्मा. जमा कराई साल भर की फीस

यदि भारत के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सबसे बड़ी प्राथमिकता बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान की सबसे बड़ी सार्थकता देखनी है तो वो उत्तर प्रदेश के सबसे जांबाज़ IPS अधिकारियो में गिने जाने वाले वर्तमान SP रामपुर श्री अजय पाल शर्मा के कार्यों को देख सकता है.. बेटी की इज्ज़त पर हाथ डाल कर उसके जीवन को खत्म करने वाले अपराधी को रामपुर में उचित दंड देने वाले अजय पाल शर्मा ने अब वो किया जो सुन कर कोई भी रो पड़ेगा ..

ये बात हो रही है 4 साल से भी ज्यादा समय से प्रयागराज कचेहरी गोलीकांड में अभियुक्त बनाये गये सब इंस्पेक्टर शैलेन्द सिंह की जिनका परिवार आर्थिक रूप से तबाह हो चुका है. सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह फिलहाल रायबरेली की जेल में बंद है लेकिन गत 4 वर्षो में उनका परिवार उनके मुकदमे की पैरवी आदि में आर्थिक रूप से लगभग तबाह हो चुका है.. माता पिता की मौत के बाद जेल में रहते हुए ही सब इंस्पेक्टर की पैरवी करने वाला उनका साला भी एक्सीडेंट में नहीं रहा.. उसके बाद उसी दुःख में उनकी सास भी चल बसी ..

अब सारी पैरवी सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र के ससुर कर रहे हैं जिनके लिए शैलेन्द्र सिंह की बेटी की पढ़ाई करा पाना असम्भव लग रहा था.. सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार IPS अजय पाल शर्मा को कुछ माह पहले अपनी प्रयागराज बतौर SP कार्मिक की तैनाती के दौरान उसी प्रयागराज में इस परिवार की दयनीय स्थिति की जानकारी हुई थी.. इन सब में उन्हें सबसे ज्यादा पीड़ादायक LKG में पढने वाली 5 वर्षीया छोटी बेटी इशिता सिंह की पढाई खत्म होने की कगार पर आना लगी..

मिली जानकारी के अनुसार उन्होंने उसी समय संकल्प कर लिया था कि अपने विभाग के जेल में बंद एक सब इंस्पेक्टर की उस बेटी को वो अपने खुद के खर्च से पढायेंगे और आख़िरकार उन्होंने ऐसा किया.. फिर सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह की बेटी इशिता के स्कूल महर्षि विद्या मन्दिर, प्रयागराज के खाते में इशिता की पूरे साल भर की फीस जमा कर दी गयी.. बताया ये भी जा रहा है कि जब तक सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह जेल से रिहा हो कर बाहर नहीं आ जाते तब तक उनकी बेटी की पढ़ाई की जिम्मेदारी अजय पाल शर्मा ले उठाई है.. सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह का केस रायबरेली जिला अदालत में चल रहा है जो कब तक चलेगा, ये निश्चित नहीं है…

हैरानी की बात ये रही कि इस बात की जानकारी IPS अजय पाल शर्मा ने किसी मीडिया को भी नहीं दी. इसका पता सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र के ससुर श्री अशोक कुमार सिंह के द्वारा चला जिनके अनुसार अजय पाल शर्मा उनके लिए किसी भगवान के अवतार से कम नहीं हैं. सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह के ससुर श्री अशोक कुमार सिंह के अनुसार यदि कल भविष्य में सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह की बेटी इशिता पढ़ लिख कर किसी योग्य बनी तो उसका पूरा श्रेय IPS अजय पाल शर्मा को जाएगा.

शैलेन्द्र सिंह के ससुर ने बताया कि IPS अधिकारियो का अपने स्तर से बहुत नीचे किसी सब इंस्पेक्टर स्तर के पुलिसकर्मी के विपत्ति काल में फंसे परिवार के लिए ये रूप भी हो सकता है ये उन्होंने सोचा भी नहीं था और उनके हिसाब से न तो शैलेन्द्र सिंह ने भी . इस मामले पर जब IPS अजय पाल शर्मा जी से बात करने की और उनका पक्ष लेने का प्रयास किया गया तो उनसे सम्पर्क नहीं हो पाया लेकिन शैलेन्द्र सिंह की बेटी इशिता की तोतली आवाज में “थैंक्यू अजय अंकल”  और उनके ससुर की आँखों से बहते भावनात्मक आंसुओं ने सब कुछ बिना कहे ही बता दिया..

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW