माँ दिव्यांग थी जो सिर्फ चीख सकती थी.. लेकिन उससे फर्क नहीं पड़ा अमजद को.. उसने वो किया जो कही जाती है दरिंदगी


आखिर वो कौन सी सोच है जो महिलाओं को हमेशा भूखी नजरों से देखती है? आखिर वो कौन सी सोच है महिलाओं को मात्र अपनी हवस की पूर्ती का साधन मात्र समझती हैं? ये सोच अपनी हवस की भूख में इतनी ज्यादा अंधी हो जाती है कि वह अपने रिश्ते नाते तक भूल जाती है? आखिर ये सोच आती कहाँ से है तथा ये जानने के बाद भी कि उसको स्वयं एक महिला ने जन्म दिया है तथा उसके खुद के परिवार में भी महिलाएं हैं, ये सोच महिलाओं के साथ, यहाँ तक कि छोटी बच्चियों तक के साथ दुष्कर्म कैसे कर देती है?

अमजद ने भी वही किया जिसे सभ्य समाज में हैवानियत कहा जाता है, दरिंदगी कहा जाता है. अमजद की दरिंदगी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उसने पीडिता के साथ उसकी दिव्यांग माँ के सामने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया. इस दौरान पीड़िता की दिव्यांग मां चीखती रही, चिल्लाती रही लेकिन अमजद पर इससे कुछ नहीं पड़ा. पीडिता तथा उसकी दिव्यांग माँ चीखती रही तथा अमजद क्रूरता के साथ बलात्कार करता.

मामला उत्तर प्रदेश के लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र का है. इस मामले में पीडिता ने पुलिस पर भी लापरवाही का आरोप लगाया है. पीडिता का कहना है कि रिपोर्ट दर्ज होने के पांच दिन बावजूद भी पुलिस आरोपी के खिलाफ कार्यवाही नहीं कर रही है. इसके बाद पीड़िता एसएसपी अजय साहनी से मिली तथा न्याय मिली. शिकायत मिलने पर मेरठ एसएसपी अजय कुमार साहनी ने थाना प्रभारी को तत्काल मामला दर्ज करने तथा कार्यवाई के आदेश दिए.

प्राप्त हुई खबर के मुताबिक लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र की निवासी विवाहिता के अनुसार उसकी शादी हरियाणा में हुई है और महिला ने बताया कि उसकी ममेरी बहन का नंदोई अमजद उसकी ससुराल पहुंचा. अमजद ने उसकी ससुराल वालों से कहा कि महिला को उसका पिता मायके बुला रहा है. जिसके बाद मायके वालों ने यकीन करके महिला को अमजद के साथ भेज दिया. जब वह अमजद के साथ मायके पहुँची वहां सिर्फ उसकी दिव्यांग माँ थी. मायके में अमजद ने पीड़िता के साथ उसकी दिव्यांग माँ के सामने बलात्कार किया. मामले में बीते मंगलवार को शिकायत मिलने पर एसएसपी अजय साहनी ने थाना पुलिस को कार्रवाई करने के निर्देश दिए है.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे लिंक पर जाएँ –


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share