अकबर की महानता बताती कांग्रेस पर महाराणा प्रताप के भक्तों का हल्ला बोल.. राजस्थान में फिर छिड़ा एक रण

राजस्थान में सरकार बनाने के बनाद कांग्रेस पार्टी एक बार पुनः उसी ट्रैक पर लौटती हुई दिखाई दे रही है, जिस पर वह हमेशा से चलती आई है. प्रदेश में सरकार बदली तो पुरानी सरकार द्वारा बदले गए स्कूली पाठ्यक्रम में फिर बदलाव की बात भी सामने आने लगी है. ऐसे में खुद शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा ने कमेटी बनाकर इसकी समीक्षा कर आवश्यक बदलाव करने की बात कही है. राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार में शिक्षा मंत्री ने  एक प्रश्न कि “किताबों में फिर से अकबर महान पढ़ाया जाएगा या फिर महाराणा प्रताप ही महान रहेंगे” के जवाब में कहा कि उनकी सरकार इसकी समीक्षा  करेगी.

राजस्थान के शिक्षा मंत्री द्वारा किताबों में पढ़ाई जा रही महाराणा प्रताप की महानता की गाथाओं की समीक्षा करने की बात कहे जाने के बाद महाराणा प्रताप के भक्तों ने कांग्रेस पर हल्ला बोल दिया है तथा राजस्थान में एक बार पुनः रण छिड़ता हुआ नजर आ रहा है. भारतीय जनता पार्टी ने एलान किया है कि महाराणा प्रताप सिंह राजस्थान ही नहीं बल्कि संपूर्ण हिंदुस्तान की न सिर्फ प्रेरणा हैं बल्कि पहिचान भी है. भाजपा ने एलान किया है कि अगर कांग्रेस ने किताबों में महाराणा प्रताप की जगह अकबर को महान बताया तो भाजपा आन्दोलन करेगी तथा हिंदवा सूर्य महाराणा प्रताप का अपमान कदापि बर्दाश्त नहीं करेगी.

भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि महाराणा प्रताप की वीरता की मिसाल दी जाती है और पूरे भारत में उनके इतिहास की गौरवगाथा सुनाई जाती है, ऐसे में शिक्षा मंत्री द्वारा दिया गया बयान की किताबों में महाराणा से संबंधित पाठ की समीक्षा होगी वो काफी निंदनीय है”. इस दौरान सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार अकबर को महान बनाना चाहती है. जिसके कारण वो फिर से पाठ्यक्रम की समीक्षा करवाने की बात कह रही है. इसके अलावा राजपूत समाज के संगठन करणी सेनाबी तथा सभी हिन्दू संगठनों ने भी कहा है कि अगर कांग्रेस ने महाराणा प्रताप के इतिहास के साथ जरा भी छेड़छाड़ की तथा उनकी जगह मुग़ल आक्रान्ता अकबर को महान बताने का प्रयास किया तो कांग्रेस की ईंट से ईंट बजा दी जायेगी तथा कांग्रेस को सबक सिखाया जाएगा.

बता दें कि पिछली वसुंधरा सरकार ने पाठ्यक्रम में मुग़ल आक्रान्ता अकबर को हटाकर वीर शिरोमणि, हिन्दू कुलभूषण महाराणा प्रताप को जगह दी थी. अब वसुंधरा सरकार जाने के बाद बनी कांग्रेस सरकार के शिक्षा मंत्री कह रहे हैं कि उनकी सरकार इसकी समीक्षा करेगी. राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा से पूंछा था कि स्कूली पाठ्यक्रम में बच्चे महाराणा प्रताप महान ही पढ़ेंगे या फिर किताबों में अकबर महान भी पढ़ाया जाएगा. इस प्रश्न पर  डोटासरा ने कहा था  कि इसकी समीक्षा की जायेगी. गोविंद डोटासरा से जब पूछा गया कि क्या व्यक्तिगत रूप से गोविंद डोटासरा को नहीं लगता कि महाराणा प्रताप महान हैं, तो डोटासरा ने ये बोल कर अपना पल्ला झाड़ लिया कि उनका व्यक्तिगत कुछ नहीं है तथा जो कुछ होगा समीक्षा के बाद होगा. राजस्थान शिक्षा मंत्री के बयान के बाद भाजपा, राजपूत संगठन तथा हिन्दू संगठनों ने कांग्रेस के  खिलाफ हल्ला बोल दिया है.

Share This Post