Breaking News:

मेरठ के बाद अब UP की मैनपुरी पुलिस पर हमला.. साबिर, जाहिद, हफीज, जुबैर, शहजाद, शाहिद आदि हुए वर्दी वालों के खून के प्यासे और बरसाईं गोलियां

एक तरफ भारत की सीमाओं पर राष्ट्र के रक्षक सैनिको को आये दिन हमलो का शिकार होना पड़ रहा है तो वहीँ अब देश के अन्दर भी वर्दी वालों अर्थात पुलिसकर्मियों पर कहीं न कहीं एक वर्ग द्वारा आये दिन हमलों की खबरें आ रही हैं . इस मामले में सबसे ज्यादा उल्लेखनीय मेरठ है जहाँ पर अतिक्रमण हटा रहे पुलिस वालों पर हमला हुआ था . इसके बाद छत्तीसगढ़ में पुलिस वालों के खिलाफ जमकर अभद्रता हुई थी जिसको सुदर्शन न्यूज ने प्रमुखता से दिखाया जिस पर कार्यवाही भी हुई ..

अब वही सिलसिला पहुच गया है उत्तर प्रदेश के ही मैनपुरी में जहाँ पर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने गई पुलिस पर अचानक ही हमला बोल दिया गया . यद्दपि पुलिस वालों ने बहादुरी दिखाते हुए उनके हमले को नाकाम किया और अंत में कानून व्यवस्था कायम की लेकिन पुलिस पर पहले हमला फिर आग लगा कर पुलिस के खिलाफ ही दुष्प्रचार कईयों को सोचने पर मजबूर कर गया है कि कहीं ऐसा तो नहीं कि देश के अन्दर कुछ गडबड चल रहा हो या गडबड करने की तैयारी हो .

ताजा मामला है उत्तर प्रदेश के मैनपुरी से जहाँ पर पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है . इसी क्रम में उनके खिलाफ खुदे होने का दुस्साहस दिखाया गया है . घटना बुधवार देर रात की है। करहल पुलिस के एसआई सुधीर कुमार के साथ पुलिस की एक टीम कस्बा करहल के मोहल्ला जाटवान में कोर्ट के निर्देश पर वांछितों की गिरफ्तारी के लिए पहुंची। जहां पुलिस ने आरोपियों को पकड़ लिया। इसी बीच आरोपियों और उनके समर्थन में पहुंची भीड़ ने पुलिस के साथ गाली-गलौज कर दी और अभद्रता शुरू कर दी।दहशत फैलाने के लिए फायरिंग की गई। पुलिसकर्मियों ने मौके से भागकर अपनी जान बचाई।

पुलिस ने विरोध किया तो आरोपियों ने पुलिस टीम पर पथराव कर दिया। आरोपियों ने पुलिस पर फायरिंग भी की जिसमें पुलिसकर्मी बाल-बाल बच गए। पुलिस टीम चार आरोपियों को ले जाने लगी तो उन्हें छुड़ा लिया गया और पुलिस को दौड़ा दिया गया। थाने पहुंचे दरोगा सुधीर कुमार ने एसओ राजेश पाल सिंह को घटना की तहरीर दी। पुलिस ने तहरीर के आधार पर सोनी कुरैशी, साबिर, जाहिद, हफीज, वकील, जुबैर,  शहजाद, शानू, शाहिद, वाहिद, सद्दों अदि तथा 20-25 अज्ञात के खिलाफ घटना का मुकदमा दर्ज कराया है। अब सवाल ये उठता है कि आखिर क्यों एक वर्ग विशेष के अन्दर वर्दी वालो को ले कर इतना गुस्सा बढ़ रहा है कि आये दिन कहीं न कहीं ऐसी घटना सामने आने लगी है ..

Share This Post