सहारनपुर में फिर से शौर्य.. जांबाज़ पुलिस वालों से मुठभेड़ में मारा गया दुर्दांत अपराधी अदनान उर्फ मूसा


जो शासन ही नहीं बल्कि आम जनता की अपेक्षा थी उस पर शत प्रतिशत खरी उतर रही है पश्चिम उत्तर प्रदेश के सीमान्त जिले सहारनपुर पुलिस.. समाज में शांति और सौहार्द बना रहे इसके लिए दिन रात एक कर के सहारनपुर पुलिस के जांबाज़ वहां के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी के नेतृत्व में अपराधियों पर कड़ी नजर रखे हुए थे और आख़िरकार उसका सुखद प्रतिफल तब देखने को मिला जब एक और अपराधी उनके हत्थे चढ़ गया जो बना हुआ था शांति और सुरक्षा का दुश्मन सभ्य समाज के लिए .

17 जून: बलिदान दिवस तृतीय सरसंघचालक परमपूज्य बाला साहब देवरस जी.. भारतमाता के वो सपूत जिनका जीवन ज्वलंत प्रेरणा है धर्मपत पर चलते हुए राष्ट्र निर्माण के कार्यों की

ज्ञात हो कि हर प्रकार के अपराध पर लगाम लगाने की सहारनपुर पुलिस की तमाम कोशिशो में एक कोशिश तब और सफल रही जब आमने सामने की एक मुठभेड़ में एक और दुर्दांत अपराधी अदनान उर्फ़ भूरा मारा गया .. सहारनपुर पुलिस ने इस अपराधी को सरेंडर करने और खुद को पुलिस के हवाले करने का पूरा समय दिया लेकिन खुद को कानून से ऊपर समझने की भूल करने वाला ये अपराधी लगातार पुलिस पर फायरिंग करता रहा जिसका जवाब भी इसको गोली से ही मिला और ये मारा गया ..

अब्दुल्ला रोक दिए गये मंदिर जाने से.. कश्मीरी हिन्दुओं ने ठुकराया नकली सेक्यूलरिज्म और किया हर हर महादेव का उद्घोष

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत शनिवार रात करीब साढ़े नौ बजे बदमाशों के आने की सटीक सूचना पर सतर्क पुलिस वाहनों और संदिग्धों की चेकिंग अभियान चला रही थी .. सूचना सही साबित हुई क्योकि इस चेकिंग के ही दौरान बाइक सवार दो लोगों को पुलिस ने रोकने का प्रयास किया लेकिन वो रुकने के बजाए पुलिस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाते हुए भागने लगे .. पुलिस ने भी इनका पीछा किया और इन्हें गांव मुंडीखेड़ी के जंगल में घेर लिया.. खुद को घिरता देख कर बदमाश बाइक छोड़कर खेत में घुस गए।.

“विश्वास जीतने” की कोशिश को बड़ा झटका.. दिल्ली में गौ माता को काट कर सड़कों पर डाला था इमरान ने

यहाँ पर आमने सामने गोलियां चली जिसमे अपराधी सुरक्षित छिपे थे और पुलिस वालों को अँधेरे में अनुमान से ही मोर्चा सम्भालना पड़ा जो बेहद जोखिम भरा था ..यहाँ ये ध्यान रखने योग्य है कि पुलिस बार बार अपराधियों को सरेंडर करने के लिए कहती रही पर उनके ऊपर कोई असर नहीं पड़ा और वो गोलियां बरसाते रहे.. इतने के बाद भी फिर भी पुलिस ने खुद को मौके पर अटल और अडिग रखा और अपराधियों से जंग लडती रही .. थोड़ी देर बाद बदमाशो की तरफ से फायरिंग रुक गई..  फायरिंग रुकने के बाद पुलिस खेत में घुसी तो अदनान उर्फ मूसा का शव पड़ा हुआ था, और उसका भाई नोमान घायल था।

17 जून: “निर्वाण दिवस” राजमाता जीजाबाई.. भारतवर्ष की वो महान नारी शक्ति जिनके कारण आज भी गौरवान्वित है भारत का पावन इतिहास

यहाँ इस मुठभेड़ की सूचना पर भारी भीड़ जमा हो गई और अपराधियों ने उस भीड़ को ही निशाना बनाना शुरू कर दिया जिसका मूल उद्देश्य पुलिस का ध्यान अपने तरफ से हटाना था . ऐसे में पुलिस के लिए 2 मोर्चे जैसा खुल जाना था पर प्रसंशा करनी होगी पुलिस बल की जिसने इन तमाम परिस्थितियों का शानदार ढंग से सामना किया . अपराधियों की गोली से घायल हुए शहजाद को पुलिस उपचार के लिए जिला अस्पताल भिजवाया .. अदनान उर्फ मूसा थाना रामपुर मनिहारान क्षेत्र के गांव शिवदासपुर का रहने वाला था..

वामपंथ शासित केरल में जिन्दा जला दी गई महिला पुलिसकर्मी सौम्या, घरों का दरवाजा पीट कर मांग रही थी मदद … जलाने वाले का नाम है एजाज

अदनान उर्फ़ मूसा के मारे जाने के बाद आम जनमानस में हर्ष का माहौल   देखने को मिला और अदनान के अपराधो से तंग आम लोगों ने सहारनपुर पुलिस को धन्यवाद किया .. यहाँ एक बार फिर से सहारनपुर पुलिस के उच्चाधिकारियों की प्रशंशा करनी होगी जिन्होंने पल पल पर नजर रखी और समाज को एक बार फिर से एक दुर्दांत अपराधी से भयमुक्त करने में सफलता पाई . पुलिस का आम जनता में बढ़ा विश्वास इस बात से भी जाना जा सकता है कि मुठभेड़ के समय सहारनपुर का एक बड़ा जनसमुदाय मुठभेड़ कर रहे पुलिस बल के सुरक्षित रहने के लिए प्रार्थना कर रहा था ..

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share