जवानों के बलिदान ने देश के अंदर तमाम गद्दारों के चेहरे दिखाए.. एक और कॉलेज जहाँ मच गया बवाल


उत्तराखंड के रुड़की की क्वांटम ग्लोबल यूनिवर्सिटी में उस समय बवाल हो गया जब कश्मीरी उन्मादी छात्र छात्राओं ने पुलवामा आतंकी हमले में बलिदान हुए जवानों तथा देश के खिलाफ सोशल मीडिया फेसबुक व इंस्ट्राग्राम पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी. इसके बाद कॉलेज के अन्य राष्ट्रवादी छात्र-छात्राएं आक्रोशित हो गये तथा हंगामा शुरू कर दिया. सूचना पर पांच थानों का फोर्स भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा तथा छात्रों को समझाने का प्रयास किया. लेकिन छात्र कश्मीरी छात्र-छात्राओं पर कार्रवाई की जिद पर अड़े रहे. इस बीच कॉलेज प्रबंधन ने आरोपी सात कश्मीरी छात्र-छात्राओं को निलंबित कर दिया. इसके बाद माहौल शांत हुआ.

खबर के मुताबिक़, रुड़की के भगवानपुर थाना क्षेत्र स्थित क्वांटम ग्लोबल यूनिवर्सिटी में मंगलवार को कुछ छात्रों ने सात कश्मीर छात्र-छात्राओं पर सोशल मीडिया फेसबुक और इंस्ट्राग्राम पर आपत्तिजनक पोस्ट करने का आरोप लगाया. छात्रों की कश्मीरी छात्र-छात्राओं से इस बात को लेकर तीखी नोकझोंक भी हुई तथा विवाद  बढ़ गया. छात्रों को बवाल करता देख कॉलेज प्रबंधन ने छात्रों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन छात्र सातों छात्र-छात्राओं पर कार्रवाई की जिद पर अड़े रहे और हंगामा करते रहे. कॉलेज प्रबंधन ने भगवानपुर थाना पुलिस को घटना की सूचना दी. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर छात्रों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन छात्र आरोपियों के खिलाफ कार्यवाई पर अड़े रहे.

बवाल को देखते हुए मंगलौर, झबरेड़ा, कलियर और सिविल लाइंस कोतवाली का पुलिस बल भी मौके पर बुलाया गया. इस बीच कॉलेज प्रबंधन ने आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोप में कश्मीरी सात छात्र-छात्राओं को निलंबित करते हुए जांच बैठा दी. कश्मीरी छात्रों पर कार्रवाई होने पर हंगामा कर रहे छात्र शांत हुए. यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर अमित दीक्षित ने बताया कि कश्मीर के सात छात्र-छात्राओं को निलंबित कर दिया गया है.

अमित दीक्षित ने बताया कि आपत्तिजनक आरोपों की जांच चलने तक सातों के कॉलेज में आने पर रोक लगा दी गई है साथ ही कॉलेज में जांच कमेटी गठित की गई है. अगर जांच में आरोप सही पाए जाते हैं तो आगे की कार्रवाई की जाएगी. उधर, एसओ संजीव थपलियाल ने बताया कि कॉलेज प्रबंधन ने सातों छात्रों का निलंबन करने की जानकारी दी है. अगर कॉलेज प्रबंधन की तरफ से तहरीर मिलती है तो उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...