#AndhraPradesh में जाग उठा हिन्दू… गांव में लगे बोर्ड, जिहादी व धर्मान्तरण वाले यहां न घुसें

कहते हैं कि अगर अपने ऊपर हो रहे तथा अत्याचार तथा अन्याय के खिलाफ हद से सहिष्णुता दिखाई जाए तो आपका विरोधी इसे आपकी कमजोरी समझने लगता है तथा आपके ऊपर हावी होने का प्रयास करने लगता है.  यही सम्पूर्ण हिन्दुस्तान में हिन्दुओं के साथ होता आया है. दक्षिण भारत के राज्यों में इसाई मिशनरियां पहले से ही हिन्दुओं के धर्मान्तरण के लिए प्रयास कर ही रही थी लेकिन इसके बाद जिहादी आक्रान्ताओं ने भी ये सब करना शुरू कर दिया. आखिरकार हिन्दुओं का धैर्य जवाब दे गया तथा निज धर्म रक्षार्थ हिन्दुओं के मिशनरियों तथा जिहादियों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया.

खबर के मुताबिक आन्ध्र प्रदेश के कडापा जिले के केस्लिंग्यपल्ली गाँव के लोगों ने अपने गाँव के बहार एक बड़ा बोर्ड लगा दिया है जिस पर साफ शब्दों में लिख दिया है कि ये गाँव सिर्फ हिन्दुओं का है तथा इस गाँव में दुसरे धर्म के लोगों का प्रवेश पूर्णतया वर्जित है. बताया गया है कि पिछले साल रामनवमी पर गाँव के हिन्दुओं ने ये नियम बनाया था कि इस गाँव में कोई भी मिशनरी या मुस्लिम अपने धर्म का प्रचार आदि नहीं कर सकेगा. सबसे आश्चर्य की बात ये है कि इस फैसले के समर्थन में गाँव माँ हर नागरिक समर्थन कर रहा है तथा एक साल से कोई भी गैर हिन्दू इस गाँव में नहीं गया है. गांववालों का कहना है कि इसी मिशनरियों ने यहाँ के कई गांवों को तबाह कर दिया है लेकिन वह लोग अपने गाँव में ऐसा नहीं होने देंगे तथा हिंदुत्व की भगवा पताका को कभी झुकने  नहीं देंगे.

गौरतलब है इस हिन्दू गाँव में लगे बोर्ड पर लिखा है, ‘इस गांव में सिर्फ हिन्दू रहते हैं, इसलिए दूसरे धर्म के किसी भी शख्स के द्वारा इस गांव में अपने धर्म का प्रचार या प्रसार सख्त प्रतिबंधित है, यदि इस प्रथा को कोई तोड़ता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू की जाएगी- केसलिंगयापल्ले गांव के निवासी’. साथ ही इस बोर्ड के दोनों तरफ जय श्री राम के साथ ही एक संदेश भी लिखा है, ‘यदि एक शख्स दूसरे धर्म में चला जता है तो यह अपनी मां को बदलने के जैसा ही है.’ खबर के मुताबिक इस गाँव में सिर्फ हिन्दू रहते है जिनकी आबादी लगभग 1500 के क़रीब है. गाव में कापू, अनुसूचित जाति और ओबीसी शामिल भी है.

Share This Post