भगवा को बदनाम करने की बेहद नापाक साजिश.. 8 साल तक साधु बना रहा अपराधी अनीश खान


उन्मादी अनीश खान ने अपने कुकृत्यों तथा अपराध को छिपाने के लिए उस भगवा का सहारा लिया जिस भगवा को हिन्दू समाज में बेहद ही पावन तथा पूज्य माना जाता है. अनीश खान जानता था कि अगर उसने भगवा धारण कर लिया तो वह पकड़ में नहीं आएगा तथा अगर पकड़ा भी गया तो इससे भगवा बदनाम होगा. भगवा को बदनाम करने के लिए उन्मादी खान ने बेहद ही नापाक साजिश रच डाली तथा चोरी के मामले में फरार हो गया और भगवा धारण करके रहने लगा.

बिजली के खम्भों पर बिछा दिए गये केबल नेटवर्क के तार.. प्रशासनिक अधिकारी भी उसी नेटवर्क से देख रहे TV. ये राजस्थान है

मामला मध्यप्रदेश के राजगढ़ का है जहाँ का रहने वाला अनीश खान सोनकच्छ में भगवा वेश में रह रहा था ताकि वह छिपा रहे. वह नि:संतान महिलाओं को संतान प्राप्ति का आशीर्वाद देता था तथा दावा करता था कि उसका आशीर्वाद खाली नहीं जाता. यह नौटंकी पूरे 8 साल तक चलती रही. मीडिया सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक़, एसपी प्रदीप शर्मा ने बताया की चुनाव के दौरान फरार वारंटियों काे पकड़ा जा रहा था. इसी दौरान कुरावर पुलिस को आठ साल से चोरी के आरोप में फरार अनीश पुत्र रईश खान अपना नाम बदलकर साधु के वेश में भोपाल रोड स्थित सोनकच्छ में रह रहा था, इसकी सूचना मुखबिर ने कुरावर पुलिस को दी.

जिसे शिक्षक कहते थे वो था आतंक का शिक्षक.. सेकुलर श्रीलंका के विश्वास का ऐसे उठाया गया नाज़ायज़ फायदा

मुखबिर की इसी सूचना पर एसडीओपी नागेन्द्र सिंह बैस व थाना प्रभारी आरएस दिवाकर की निगरानी में एक टीम बनाई. इस टीम ने छापा मारा तथा आरोपी अनीश खान को गिरफ्तार कर न्यायालय के हवाले कर दिया. श्री शर्मा ने बताया कि आरोपी ने आठ साल पहले भोपाल क्षेत्र में चोरी की वारदात की थी. इसी को लेकर जेएमएफसी न्यायालय ने फरार घोषित कर रखा था. उन्होंने बताया कि आरोपी भगवा धारण कर सोनकच्छ में छिपा हुआ था.

पहली बार होने जा रही इस अंदाज में हिंदुओं की चार धाम की पवित्र यात्रा..

एसपी शर्मा ने बताया कि आरोपी आठ साल से क्षेत्र में साधु बनकर घूमता रहा. ऐसे ही उसने फरारी काटी. वह लोगों को तंत्र विद्या, टोना-टोटका से फायदा पहुंचाने का झांसा देकर अपना जीवन निर्वाह कर रहा था. इसी दौरान कई महिलाओं को बच्चे देने व पुत्र प्राप्ति के लिए भी टोटके बताता था. आरोपी लोगों को अपने झांसे में लेकर जादू की आड़ में नगदी भी ऐंठता था. इसी दौरान तांत्रिक के पास एसआई पवनसिंह भदौरिया, धनराज मीणा, बीरेंद्र, राजेश यादव तंत्र-मंत्र कराने पहुंचे और गिरफ्तार कर लिया.

जिन जिन ने भगत सिंह के खिलाफ गवाही दी जनिये कौन थे वो और क्या हुआ उनका बाद में ?

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share