बांग्लादेशी आक्रान्ताओं से इतना प्यार कि कटघरे में खड़ा कर दिया भारत की ही अदालत को.. ऐसा करने वाला कोई और नहीं भारत की जनता द्वारा चुना गया विधायक है.

वो हिन्दुस्तान की जनता द्वारा चुने गये विधायक हैं लेकिन लगता है कि उन्हें हिन्दुस्तान से ज्यादा प्यार उन बांग्लादेशी आक्रान्ताओं से है जो अवैध रूप से असम में बस गये हैं. जब से भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने असम से अवैध बांग्लादेशियों को निकलने की बात की है, तो बांग्लादेशी प्रेमियों की हालत ख़राब हो गयी है, इसीलिये तो अब वह देश की अदालत पर भी उंगली उठा रहे हैं. ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के नेता और धिंग विधायक अमीनुल इस्लाम ने अदालत को ही कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि गुवाहाटी उच्च न्यायालय भी मुस्लिमों को न्याय दिलाने में असफल रहा है. उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर की और कहा कि धार्मिक अल्पसंख्यकों को अदालत से न्याय पाने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए.

विधायक अमीनुल ने एक वीडियो भी अपलोड किया जहां उन्होंने दावा किया कि नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजंस (एनआरसी) सत्यापन प्रक्रिया के दौरान विदेशी न्यायाधिकरण न्यायालय द्वारा डी-वोटर घोषित किया गया है, उसे गौहाटी उच्च न्यायालय के सभी शीर्ष वकीलों ने ठुकरा दिया था. अमीनुल ने कहा कि इस मामले को लेकर कुछ लोग उच्च न्यायालय के शीर्ष वकीलों से मिले थे। जहां वकीलों ने कहा कि मुसलमान को छोड़कर दूसरे समुदाय के लोग चाहे वो हिंदू या किसी अन्य धार्मिक समुदाय से हो, उसकी राष्ट्रीयता को साबित करना आसान है। लेकिन एक मुस्लिम की नागरिकता साबित करना मुश्किल होगा। अमीनुल ने आगे कहा कि अगर किसी व्यक्ति को उच्च न्यायालय में भी न्याय नहीं मिलता है। तो वो लोग कहां जाएं?
उन्होंने कहा, मैं उच्च न्यायालय के प्रतिनिधियों के आचरण पर हैरान हूं। यदि न्यायिक प्रणाली स्वयं नागरिक को मान्य नहीं कर सकती है तो कौन करेगा? एनआरसी अद्यतन प्रक्रिया के बारे में बोलते हुए, अमीनुल ने कहा, ‘यह मुस्लिम समुदाय के लोगों के खिलाफ उन्हें बाहर भेजने की साजिश है।’ असम में एनआरसी अद्यतन प्रक्रिया के बारे में बात करते हुए एआईयूडीएफ विधायक ने आगे कहा कि यह मुस्लिम समुदाय के लोगों के खिलाफ उन्हें राज्य से विस्थापित करने की साजिश है। एनआरसी राज्य से लाखों मुस्लिमों को विस्थापित करने की एक चाल है और यह हमारे भाइयों के लिए बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. देश के लिए ये बहुत ही शर्मानाक है कि एक विधायक देश को खोखला कर रहे लोगों के प्रेम में इतना ज्यादा अंधा हो गया है कि वह अदालत पर ही सवाल खड़े कर रहा है.
Share This Post

Leave a Reply