विधायक जी मेरे घर में आते थे और मेरा बलात्कार कर के मेरे पति से कह कर जाते थे – “इसे बाँध कर रखना, जब मूड बनेगा तो फिर आऊंगा”

सरकार पर आरोप लगाने वालों में इनका नाम सबसे आगे रहता था .. हर दिन कहीं न कही किसी प्रकार की सरकार से समस्या को बताना इनकी पहिचान बन चुकी थी जिसमे इनके मुँह से लच्छेदार बातें और न्याय नीति और संस्कार की बातें निकला करती थी लेकिन कोई सोचा भी नहीं था की इनके मन में इतना जहर और सोच में इतनी हवस भरी पड़ी है .. बंगलादेशियो की पैरवी करने के लिए आगे रहने वाला विधायक अब आ चुका है बैकफुट पर क्योकि उसके कुकर्मो की कलई अचानक ही खुल गयी है जिसमे हुआ है एक महिला का बलात्कार और वो मांग रही है अपने लिए न्याय .

ब्याय की लड़ाई में अकेली पड़ती एक महिला की ये दर्दनाक कहानी है असम से जहाँ से एक बड़ी चौंकाने वाली खबर सामने आई है। यहां के एक विधायक पर महिला से बलात्कार का आरोप लगा है। पीडि़ता ने विधायक के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। असम से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। यहां के एक विधायक पर महिला से बलात्कार का आरोप लगा है। पीडि़ता ने विधायक के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।  मीडिया रिपोर्ट से मिल रही खबर के अनुसार मौलाना बादउद्दीन अज़मल के ख़ास ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट(एआईयूडीएफ) के विधायक निजाम उद्दीन चौधरी पर शादीशुदा महिला ने बलात्कार का आरोप लगाया है।

उन्नाव के विधायक पर हल्ला मचाने वाले अब असम के चौधरी अलगापुर से विधायक के मामले में वो सक्रियता दिखाते नहीं दिख रहे है। इस साहसी महिला ने ने हैलाकांडि सदर पुलिस थाने में शुक्रवार को विधायक निजाम चौधरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जिसके बाद अचानक ही नारी के सम्मान की दुहाई देने वाले लोग खामोश हो गए . । पीडि़ता ने अपने पति के खिलाफ भी शिकायत दर्जज्ञ कराई है। पीडि़ता का आरोप है कि 19 मई को उसका पति उसे हैलाकांडी सर्किट हाउस ले गया। वहां पर एआईयूडीएफ के विधायक निजाम चौधरी ने उससे बलात्कार किया। पीडि़ता का कहना है कि बलात्कार की घटना के बाद उसे घर में बंद कर दिया जाता था । वह किसी तरह घर से भागने में कामयाब रही। इसके बाद उसने हैलाकांडि पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई।

2016 के विधानसभा चुनाव में निजाम चौधरी अलगापुर से विधायक चुना गया था।

 

Share This Post

Leave a Reply