7 माह की गर्भवती महिला पर इसलिए किया हमला, क्योंकि वो बीजेपी कार्यकर्ता थी.. दरिंदगी का नया रूप

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शासित पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव से पहले से ही जारी राजनैतिक हिंसा थमती हुई नजर आ रही है तथा आये दिन राज्य में सत्तारूढ़ टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा बीजेपी कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है, उन पर हमले किये जा रहे हैं तथा हत्याएं की जा रही हैं. लोकसभा चुनावों में राज्य में बीजेपी को जिस तरह से बड़ी सफलता मिली, उसके बाद से राजनैतिक हिंसा में और तेजी आई है.

इस्लामिक मुल्क इंडोनेशिया में अपने अधिकारी की गंदी बातें और गंदी मांग को फोन में टेप कर न्याय मांगने वाली महिला का हुआ ये हाल

ताजा मामला पश्चिम बंगाल के हावड़ा है जहाँ 6 जुलाई को वन्दनीय डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती मनाने के समय भाजपा कार्यकर्ताओं पर भीषण हमला किया गया. बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हुए इस हमले में पार्टी की की एक गर्भवती महिला कार्यकर्ता घायल हुई हैं. पीड़िता को टीएल जायसवाल अस्पताल में दाखिल कराया गया है. पीड़िता को सात माह का गर्भ है. घटना शनिवार मालीपांचघड़ा थाना अंतर्गत दुर्गापाल मैदान के पास घटी. बीजेपी ने हमले का आरोप स्थानीय तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर लगाया है.

11 जुलाई – “विश्व जनसंख्या दिवस” पर संकल्प लीजिये धर्म और राष्ट्र की रक्षा के अंतिम विकल्प “जनसंख्या नियंत्रण कानून” के लिए सुरेश चव्हाणके जी के साथ संघर्ष का तथा आज पहुँचिये जंतर-मंतर

हमले में घायल बीजेपी की गर्भवती महिला कार्यकर्ता सोमा सेनगुप्ता ने कहा कि दुर्गापाल मैदान में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती मनाने के बाद वे सभी वहां से लौट रहे थे. आरोप है कि इसी दौरान तृणमूल के कार्यकर्ताओं ने पुलिस की मौजूदगी में उन पर और अन्य महिला भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला बोल दिया. गर्भवती होने के बावजूद सोमा सेनगुप्ता को भी नहीं बख्शा गया. सोमा ने आरोप लगाया कि तृणमूल के कार्यकर्ताओं ने पार्टी नेता बापी मन्ना और पुलिस की मौजूदगी में उसे पीटा. इसके बाद अस्पताल में सोमा सहित दो महिला कार्यकर्ताओं को दाखिल कराया गया है.

सरकार के सख्ती के बाद भी सकलडीहा ब्लाक के बढ़वलडीह में सुदर्शन न्यूज ने किया भ्रष्टाचार का खुलासा

इसके बाद डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती में सदस्यता अभियान के दौरान हावड़ा पहुंचे सांसद सुरेश पुजारी घायल भाजपा कार्यकर्ता सोमा सेनगुप्ता को देखने अस्पताल पहुंचे. उन्होंने कहा कि द्वापर और त्रेता युग में रावण, दुशासन, दुर्योधन और कंस ने भी नारी पर जुल्म और उनका असम्मान किया था. नतीजा क्या हुआ, यह हम सभी जानते हैं. तृणमूल कांग्रेस का भी यही हाल होगा. एक गर्भवती महिला के साथ इसलिए मारपीट की गयी क्योंकि वह भाजपा कार्यकर्ता है. इंसानियत को शर्मसार करनेवाली यह घटना है. विचित्र बात है कि, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जयश्री राम का नारा सुनते ही भड़क जाती हैं. अपना आपा खो बैठती हैं, लेकिन एक महिला को सरेआम पीटा जाता है और वह खामोश रहती हैं. लोकसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस लगभग आधी सीटें गंवा चुकी है. विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को वोट खोजना होगा तथा राज्य की जनता ममता सरकार को उखाड़ फेंकेगी.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post