Breaking News:

राष्ट्र के सैनिकों का वाहन बीच में आया तो भूल गये मुहर्रम का मातम और निकाल ली तलवारें.. घटना कश्मीर की नहीं

वो मुहर्रम पर मातम मना रहे थे, ताजिया का जुलूस निकाल रहे थे. तभी अचानक से CISF के जवान की बाइक उनके ताजिया जुलूस के सामने आ गई. इसके बाद वो भड़क उठे. जवान वहां से जाने लगा तो उसको जबरदस्ती रोकने की कोशिश की गई. जवान ने इस पर आपत्ति जताई तो इसके बाद वो हुआ, जिसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की थी. मुहर्रम का मातम छोडकर उन्होंने तलवारें निकाल ली तथा जवान पर टूट पड़े तथा तलवार से हमला कर उसे घायल कर दिया.

इसके बाद वहां की स्थिति तनावग्रस्त हो गई. जवान की पिटाई के विरोध में स्थानीय लोग सड़कों पर उतर आये तथा जाम लगा दिया. इसके बाद पथराव शुरू हो गया. घटना की जानकारी जिले के वरीय अधिकारियों को दिया गया. घटना के करीब तीन घंटे के बाद एसएसपी, डीएम सहित कई वरीय अधिकारी पहुंचे. जिले से अतिरिक्त पुलिस बल भी भेजा गया. आसपास के थानों को मौके पर बुलाया गया. मामला बिहार के भागलपुर के अकबरपुर थाना क्षेत्र का है.

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि सिमराहा के लोगों ने ताजिया का जुलूस निकाला था. इसी दौरान चिड़ैया गांव के सीआइएसएफ के जवान बाइक से स्टेशन जा रहे थे. ताजिया जुलूस में शामिल लोगों ने उनकी बाइक रोक दी. जवान ने आगे बढ़ने की बात कही. इसी दौरान ताजिया जुलूस में शामिल लोगों ने उन पर हमला कर दिया. मारपीट के दौरान एक युवक ने चाकू से वार कर दिया, जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गये. उग्र भीड़ से किसी तरह जवान ने बाइक छोड़ कर अपनी जान बचायी.

गांव पहुंच ग्रामीण व परिजनों को घटना की जवान ने जानकारी दी. जख्मी जवान को देख आक्रोशित ग्रामीण सड़क पर पहुंच गये. आक्रोशित लोगों ने सड़क जाम कर ताजिया जुलूस को रोक दिया. इससे जुलूस के लोग पथराव करने लगे. इससे मामला तूल पकड़ लिया और दोनों पक्षों में दो घंटे तक जमकर पथराव हुआ. इसमें अकबरनगर थाने के जवान अजय कुमार समेत कई लोग घायल हो गए. घटना को बढ़ते देख डीएसपी ने एसएसपी को इसकी जानकरी दी. एसएसपी आशीष भारती, डीएम प्रणव कुमार, एसडीओ आशीष नारायण समेत अन्य अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और लोगों को माइकिंग के माध्यम से समझा बुझाकर शांत कराया.

Share This Post