गुजरात में फिर बड़ा दुस्साहस जहाँ मजहबी उन्मादियों ने पुलिस पर किया हमला. 5 कर्तव्यनिष्ठ जवान घायल, प्रार्थना करें वीरों के जल्द स्वस्थ होने की

न जाने ऐसा क्या हुआ है कि जब से प्रधानमन्त्री ने विश्वास जीतने की बात कही है तब से आये दिन ऐसे कृत्य हो रहे हैं जो कहीं न कही लगता है कि उनके विश्वास को हिलाने के लिए हो रहे हों .. जिस प्रकार से झारखंड पुलिस के खंडन के बाद भी मॉब लिंचिंग का झूठा अलाप किया जा रहा है वो कहीं न कहीं किसी बड़ी साजिश की तरफ इशारा कर रहा है .. ओवैसी और विपक्ष के कुछ लोगों ने जिस आवाज को हवा दी अब वही बन रही जनता और वर्दी वालों के लिए मुसीबत का बड़ा कारण ..

विदित हो कि मॉब लिंचिंग के बहाने पुलिस पर किया गया है हमला और बुरी तरह से घायल कर दिया गया है गुजरात पुलिस के आधे दर्जन कर्तव्यनिष्ठ पुलिसकर्मियों को.. एक लम्बे समय के बाद गुजरात में इस प्रकार का दुस्साहस देखने को मिला है जो वहां पर कानून व्यवस्था के ऊपर सवाल उठा रहा है ..ये दुस्साहस किया गया है गुजरात के सूरत में जहाँ जुमे की नमाज़ के दिन अर्थात शुक्रवार को पुलिस और मज़हबी उन्मादियो की झडप हो गयी .. उन्मादियो ने अचानक ही पुलिस पर हमला बोल दिया था ..

वो जबरन प्रदर्शन पर आमादा थे जिसको जनता की सुरक्षा के चलते पुलिस वाले रोक रहे थे .. आख़िरकार इस हिंसक झड़प में लगभग आधे दर्जन पुलिस कर्मियों के घायल होने की खबर हैं। वहीं इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पुलिस रैली निकालने के मामले की जांच कर रही है। हालांकि बताया जा रहा है कि रैली को निकालने की अनुमति नहीं दी गई थी। इस झड़प की खबर मिलते ही राज्य के गृहमंत्री ने हालात की जानकारी ली। इसके अलावा मौके पर पुलिस का काफिला तैनात कर दिया गया है। साथ ही हंगामा करने वालों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने का आदेश दिया गया है।

Share This Post