जयश्रीराम का नारा लगाने वाले पहले पीटे गये.. अब जय ममता का नारा न लगाने वाले शिक्षक पर हमला

पश्चिम बंगाल के हुगली से एक बेहद ही सनसनीखेज खबर सामने आई है जहाँ एक कॉलेज के शिक्षक पर “जय ममता” न बोलने पर हमला किया, जिससे व बेहोश हो गये. हालाँकि जब मामले ने तूल पकड़ा तो कॉलेज में जाकर तृणमूल कांग्रेस के हुगली जिला अध्यक्ष दिलीप यादव ने शिक्षक सुब्रत चटर्जी से माफी माँगी. इसके बाद शिक्षक सुब्रतो चैटर्जी का कहना है कि तृणमूल पार्षद तन्मय देव के खिलाफ जब तक कार्यवाही नहीं होती है तब तक उन्हें शांति नहीं मिलेगी.
हालांकि शुक्रवार सुबह से ही नवग्राम हीरालाल पाल कॉलेज में पठन-पाठन शुरू हो चुका है। शनिवार को प्रोफेसर डॉक्टर सुब्रतो चटर्जी ने कहा कि मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद वह अपने सुरक्षा को लेकर आश्वस्त हैं। लेकिन जब तक प्रशासन तृणमूल पार्षद तन्मय देव के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता। जब तक पार्षद क्षमता में हैं, तब तक उन्हें शांति नहीं मिलेगी। प्रोफेसर ने यह शक जाहिर किया पार्षद  बदले की कार्यवाही कर सकते हैं। प्रोफ़ेसर ने आगे कहा “मुझे मार खाने से डर नहीं लगता है। जिन्होंने मुझे पीटा है वे मेरे छात्र नहीं है। कुछ समाज विरोधियों ने एक विशेष राजनीतिक दल का पोशाक पहनकर इस प्रकार के कुकृत्य को अंजाम दिया था।”
प्रोफ़ेसर ने कहा कि सोमवार से वे अपने काम पर लौट जाएंगे। हालांकि खबर लिखे जाने तक तृणमूल पार्षद तन्मय देव से इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई थी। वहीं कॉलेज प्रबंधन समिति के अध्यक्ष अपूर्व मजूमदार ने बताया कि कॉलेज में सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरों की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा निजी सुरक्षा बलों की भी तैनाती की गई  है। कॉलेज प्रबंधन कमेटी बैठक कर कॉलेज में अध्यापकों की सुरक्षा को और पुख्ता करने की दिशा में कदम उठाएगा.
उल्लेखनीय है की प्रोफेसर सुब्रतो चैटर्जी पर नवग्राम हीरालाल पाल कॉलेज में हुए हमले के मामले में उत्तरपाड़ा थाने की पुलिस ने विजय सरकार और संदीप पाल को बुधवार देर रात गिरफ्तार कर लिया था दोनों ही तृणमूल छात्र परिषद के समर्थक बताया जा रहे थे। हालांकि कॉलेज सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कॉलेज के रजिस्टर में कहीं भी उनका नाम दर्ज नहीं था
Share This Post