प्रयागराज में दिखा कश्मीर जैसा नजारा.. पुलिस को घेर लिया उन्मादियों ने और छुड़ा ले गये गौ तस्करों को.. प्रार्थना करें घायल पुलिस जवानों के लिए


एक बार फिर से गौ हत्यारों की दरिंदगी देख कर हर कोई ये सोच रहा है कि गौ रक्षको के खिलाफ जिस साजिश को इन्होने कुछ नेताओं के साथ बुना था उसको सार्थक तो नहीं किया जा रहा है .. हिन्दुओ का पवित्र तीर्थ प्रयागराज जो अभी हाल में ही 35 गायो की असामयिक मौत के बाद पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय बना था वो अब गौ तस्करों के दुस्साहस के लिए फिर से प्रदेश के पटल पर है .. यहाँ पर पुलिस वालों को घेर कर मारा गया है कश्मीर के अंदाज़ में और मुलजिम को छुड़ा ले गये हैं .

सोमालिया के होटल में भीषण इस्लामिक आतंकी हमला.. 26 लोगों की मौत

प्रधानमन्त्री द्वारा कुछ गौ रक्षको को गुंडा बोले जाने के बाद कई जगहों पर जो दुस्साहस दिखाया गया है उसकी एक बानगी अब प्रयागराज में देखने को मिली है . ये इलाका उस अतीक अहमद का है जिसने विधायक राजू पाल पर गोलियां बरसाई थी और मौत के घाट बीच शहर में उसको उतार दिया था , वो भी दिन दहाड़े ..  शनिवार को गोकशी के आरोपित की गिरफ्तारी पर जमकर बवाल हुआ। ग्रामीणों ने पुलिस टीम पर हमला कर आरोपित को छुड़ा लिया। पुलिस और ग्रामीणों में जमकर मारपीट हुई।

बिजनौर के मदरसे में हथियार मिलने के बाद बोले वसीम रिज़वी- “जल्द बंद न हुए ये आतंक के अड्डे तो समय 20 साल से ज्यादा नहीं बचा”

इस हमले में हैरान करने वाली बात महिलाओं के हाथो में पत्थर दिखना रही .. पुरुषो से आगे बढ़ कर महिलओं ने पथराव कर पुलिसकर्मियों को खदेड़ लिया। कई पुलिसवालों को दौड़ाकर पीटा गया। मरियाडीह गांव निवासी नूरैन को मार्च में गोकशी के एक मामले में आरोपी बनाया गया था। शनिवार को धूमनगंज थाने की बमरौली चौकी के इंचार्ज नित्यानंद सात पुलिसकर्मियों के साथ उसकी तलाश में दबिश देने पहुंचे.. बमरौली चौकी इंचार्ज नित्यानंद सिंह को बंधक बनाने की सूचना पर वायरलेस गूंजा तो कई थानों की फोर्स ने पहुंच हालात पर काबू पाया।

रात को शादीशुदा प्रेमिका के घर में खिड़की से घुसना चाहा नियाज शेख ने.. अचानक फिसला पैर और धड़ाम से गिरा नीचे, हुई मौत

इस दौरान जमकर फायरिंग भी हुई जिसमे पुलिस वालों को निशाने पर लिया गया था ..हमले में सब इंस्पेक्टर समेत सात पुलिसकर्मी जख्मी हुए हैं।पुलिस पर लाठी-डंडों और पत्थरों से हमले होने लगे। मौका पाकर कुछ युवक नुरैन को ले भागने में सफल रहे। धूमनगंज इंस्पेक्टर विजय कुमार सिंह ने बताया कि घायल पुलिसकर्मियों को इलाज के लिए भेजा गया है। जबकि पुलिस टीम पर हमला करके आरोपी को छुड़ाने के मामले में महिलाओं समेत 10 लोगों को नामजद करते हुए 50 अन्य के खिलाफ हत्या के प्रयास में विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...