आखिर कुख्यात आज़म खान पर चल ही गया योगी की सत्ता का हंटर.. आज़म को भूमाफिया घोषित कर शुरू हुई कार्यवाही

कभी महिलाओं के प्रति अपनी बदजुबानी तो कभी जहरीली सांप्रदायिक बयानबाजी के लिए कुख्यात उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के सांसद आज़म खान पर आख़िरकार योगी सरकार का हंटर चल गया है. खबर के मुताबिक़, सपा सांसद मोहम्मद आजम खान को रामपुर में भू माफिया घोषित किया गया है. जौहर विश्वविद्यालय के लिए किसानों की जमीनें कब्जाने के आरोप में फंसे आजम खान को प्रशासन ने भूमाफिया घोषित कर दिया है.

आजम खान को भूमाफिया घोषित करने के बाद उप जिला अधिकारी की ओर से उनका नाम एंटी भू माफिया पोर्टल पर दर्ज करा दिया गया है. इस पोर्टल पर उन्हीं लोगों के नाम दर्ज कराए जाते हैं जो जमीनों पर कब्जा करते हैं और उन्हें छोड़ते नहीं तथा इसी लिस्ट में आज़म  खान का नाम जुड़ गया है. भूमाफिया घोषित आजम खान और उनके एक सहयोगी के खिलाफ 26 किसानों की 5 हजार हेक्टेयर जमीन हड़पकर मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के निर्माण में इस्‍तेमाल करने का संगीन आरोप है. आजम के खिलाफ बीते एक हफ्ते में 13 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं.

बता दें कि आलियागंज के 26 किसानों ने जिलाधिकारी को शपथ पत्र देकर शिकायत दर्ज कराई थी कि आजम खां ने उनकी जमीन जबरन जौहर यूनिवर्सिटी में मिला ली है. विरोध पर तत्कालीन सीओ सिटी और वर्तमान में जौहर यूनिवर्सिटी के मुख्य सुरक्षा अधिकारी आले हसन खां ने उन्हें डराया, धमकाया और हवालात में बंद किया और चरस व स्मैक में जेल भेजने की धमकी दी। इसी कारण उन्होंने शुरू में शिकायत करने की हिम्मत नहीं जुटाई. इस शपथपत्र के बाद एक मुकदमा 12 जुलाई को प्रशासन की ओर से दर्ज कराया गया. साथ ही उसी रात यूनिवर्सिटी परिसर में आले हसन खां के आवास पर छापा मारा.

हालाँकि तब आले हसन हाथ नहीं लग सका लेकिन पुलिस ने उनके बेटे को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने आले हसन के बेटे और पत्नी के खिलाफ भी सरकारी कार्य में बाधा डालने का मुकदमा दर्ज कराया. इसके बाद आलियागंज के उन सभी 26 किसानों ने अजीमनगर थाने में अलग-अलग तहरीर दी. इनमें से 12 किसानों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज हो चुका है, जबकि 14 किसानों की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज करने की तैयारी है. इससे पहले एक जून को भी प्रशासन ने आजम खां और आले हसन के खिलाफ कोसी नदी क्षेत्र की पांच हेक्टेयर सरकारी जमीन कब्जाने और सरकारी कार्य में बाधा डालने का मुकदमा दर्ज कराया था.

इस तरह आजम खां और आले हसन खां के खिलाफ जमीन कब्जाने के आरोप में 14 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं. पिछले साल 14 मुकदमे राजस्व परिषद में भी दर्ज कराए गए थे. इनमें आरोप है कि जौहर यूनिवर्सिटी के लिए बिना अनुमति लिए अनुसूचित जाति के लोगों की जमीन खरीदी गई. ग्राम समाज की जमीन के बदले में कम उपयोगी जमीन दी गई. इस मामले में जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने कहा कि शासनादेश के मुताबिक ऐसे लोगों को भूमाफिया घोषित किया जाता है जो दबंगई से जमीनों पर कब्जा करने के आदी हैं. जिनके खिलाफ कार्रवाई की गई है वे लोग अवैध कब्जे छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं. उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश एंटी भू माफिया पोर्टल पर नाम दर्ज होने के बाद सरकार भी इसकी निगरानी करती है.

वहीं उपजिलाधिकारी सदर प्रेम प्रकाश तिवारी ने बताया कि आजम खां और आलेहसन खां का नाम एंटी भू माफिया पोर्टल पर दर्ज करा दिया गया है. अब शासन एवं प्रशासन के निर्देश पर आगे नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. पुलिस अधीक्षक डाक्टर अजय पाल शर्मा का कहना है कि आजम खान के खिलाफ दर्ज मुकदमों की विवेचना तीन सदस्यीय स्पेशल टीम करेगी. विवेचना पूरी तरह निष्पक्ष होगी. उन्होंने बताया कि भूमाफिया व हिस्ट्रीशीटर में अंतर होता है. हिस्ट्रीशीट उनकी खोली जाती है, जो अपराध करने के आदी हैं. उनके फरार होने की आशंका है और पुलिस को उनकी निगरानी की आवश्यकता है.

 

आज़म खान पर दर्ज मुकदमे

  • एक जूून 2019 : जौहर यूनिवर्सिटी में कोसी नदी क्षेत्र की पांच हेक्टेयर जमीन कब्जाने और सरकारी कार्य में बाधा डालने के आरोप में नायब तहसीलदार केजी मिश्रा ने आजम खां और आले हसन खां पर अजीमनगर थाने में मुकदमा कराया।
  • 12 जुलाई 2019  : जौहर यूनिवर्सिटी के लिए 26 किसानों की जमीन कब्जाने के आरोप में राजस्व निरीक्षक मनोज कुमार ने आजम खां और आले हसन खां पर अजीमनगर थाने में मुकदमा कराया। इसके बाद किसानों ने अलग-अलग तहरीर देकर आजम खां और आलेहसन कां के खिलाफ मुकदमे कराए।
  • 13 जुलाई 2019 :  आलियागंज गांव के किसान बंदे अली ने मुकदमा कराया।
  • 14 जुलाई 2019 : आलियागंज गांव के किसान मोहम्मद अहमद ने रिपोर्ट कराई।
  • 16 जुलाई 2019 : आलियागंज गांव के किसान कल्लन ने मुकदमा कराया।
  • 17 जुलाई 2019 : एक दिन में आठ मुकदमे दर्ज हुए। आलियागंज गांव के किसान मतलूब, नासिर, हनीफ, नाजिम, नब्बू, जुम्मा, शफीक अहमद, मोहम्मद मुस्तकीम ने जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीन कब्जाने के आरोप में आजम खां और आले हसन खां पर अजीमनगर थाने में मुकदमा कराया।
सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW