हो जाइये योगी के एक और एक्शन के लिये तैयार, हुआ पहला बड़ा प्रशासनिक फेरबदल

लखनऊ : यूपी में सत्ता संभालते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कानून व्यवस्था को और कड़ा करने के लिए एक्शन पर एक्शन ले रहे हैं। इसी कड़ी में यूपी सीएम ने आज काफी बड़े फैसले लिए। योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था को कड़ा करने के लिए 20 आईएएस अफसरों के तबादले किए हैं।

सूबे में नए फेरबदल के तहत मृत्युंजय कुमार नारायण को मुख्यमंत्री का सचिव बनाया गया है, जबकि नवनीत सहगल को सूचना एवं पर्यटन सचिव पद से हटाकर उनका प्रभार अविनाश अवस्थी को सौंप दिया गया है। वहीं, अनीता मेश्राम को बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग का सचिव और आरपी सिह को प्रमुख सचिव खनन बनाया गया है।

रमा रमण को नोएडा विकास प्राधिकरण के प्रमुख सचिव पद से हटाकर उनकी जगह आलोक सिन्हा को प्रभार सौंपा गया है। इसके साथ ही रमा रमण और अपर मुख्य सचिव गुरदीप सिंह को भी वेटिंग लिस्ट में रखा गया है। इसके अलावा यूपीएसआईडीसी से अमित घोष, गुरुदीप सिंह, गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के वीसी विजय यादव, डिंपल वर्मा, सचिव संस्कृति एवं निदेशक संस्कृति हरिओम औरदीपक अग्रवाल (मुख्य कार्यपालक नोएडा और ग्रेटर नोएडा) को भी वेटिंग लिस्ट में डाल दिया गया है।

राजस्व परिषद के सदस्य राज प्रताप सिंह को अपर मुख्य सचिव बनाया गया है। मुकेश मेश्राम को प्राविधिक शिक्षा विभाग के पद के अतिरिक्त प्रभार से मुक्त कर सिर्फ वाणिज्य कर विभाग के आयुक्त का जिम्मा दिया गया है। भुवनेश कुमार को लखनऊ के कमीश्नर पद के अतिरिक्त भार से मुक्त कर व्यवसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के सचिव पद का जिम्मा दिया गया है। इसके अलावा भुवनेश कुमार को प्राविधिक शिक्षा विभाग के सचिव पद का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।

गुरुदीप सिंह को अवैध खनन मामले में हटाया गया है उनकी जगह आर पी सिंह को खनन प्रमुख सूची बनाया गया है। वहीं, अमित मोहन प्रसाद को सीईओ नोएडा और ग्रेटर नोएडा का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। अलोक सिन्हा को प्रमुख सचिव अद्द्योगिक विकास का चार्ज मिला है। आमोद कुमार को विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी विभाग के सचिव पद से हटाकर राजस्व परिषद का सदस्य बनाया गया है। आवास एवं शहरी नियोजन विभाग के सचिव पन्धारी यादव को अब राजस्व परिषद का सदस्य बनाया गया है।

Share This Post