Breaking News:

गर्व कीजिए अपने सनातन धर्म पर, मुस्लिम महिला ने भी लगाए ‘जय श्री राम’ के नारे..

कहते हैं कि सुबह का भुला शाम को घर वापर आ जाए तो उसे भुला नहीं कहते है। इस मुहावरे का मतलब कोई समझा ना हो पर मुस्लिम औरतें इस मुहावरे का मतलब समझ गई है। अब मुस्लिम औरतों को समझ में आने लगा है कि उन्हें इस्लाम को छोड़कर सनातन धर्म में आ जाना चाहिए। ऐसे ही एक मुस्लिम औरत ने अपने पति के तलाक देने के बाद कहा।

दरसल, यूपी के गोंड़ा में एक शौहर ने अदालत में अपनी पत्नी को तीन बार तलाक कह कर जाने लगा। पत्नी ने अपने शौहर को रूका ओर उसे पीटने लगी। अपने शौहर को पीटते हुए पत्नी बोली कि अब मैं आजाद हुं, मैं अपना धर्मांतरण करके अपनी जिंदगी को सुख मय बना लुगी। लोगों के अनुसार मुस्लिम महिला ने अपने शौहर को पीटते हुए जय श्री राम के नारे भी लगाए। मुस्लिम महीला का नाम रूकैया खातून है व उनके शौहर का नाम महमूद अहमद है।  

बता दें कि रुकैया खातून का निकाह 8 नवंबर, 2014 को महफूज अहमद पुत्र महमूद अहमद निवासी पटेलनगर गोंड़ा के साथ हुआ था। रुकैया खातून को निकाह के कुछ माह बाद ही दहेज में बाइक, सोने की चेन, नकदी आदि न मिलने के कारण ससुर व शौहर ने उत्पीड़न देना सुरु कर दिया था। रुकैया की मानें तो उसको खाना-पानी भी देना बंद कर दिया गया और साथ में उसे पीटा भी जाता था। रुकैया खातून के पांच माह की गर्भवती होने पर ससुराल वालों ने उसे घर से बहार निकाल दिया।

रुकैया खातून के परिवार वालो ने इस मामले को लेकर 10 जून, 2015 को शौहर के साथ पांच अन्य लोगो पर दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया था। सोमवार को इस मामले की पेशी थी। दोनों पक्ष अदालत पहुंचे। जहां पर महफूज ने अदालत में अपनी बीवी को तलाक दे दिया। तलाक दिए जाने के बाद रुकैया खातून ने धर्म परिवर्तन कर सनातन धर्म अपनाने को कहते हुए सनातन धर्म को अच्छा बताते हुए जय श्री राम के नारे भी लगाये।

Share This Post