सुदर्शन न्यूज संवाददाता पर FIR होने के बाद कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ में बढे राष्ट्रविरोधियो के हौसले.. कांकेर के स्कूल में “भारत माता की जय” बोलने पर रोक

ये वही प्रशासन है जो हिन्दुओ के दर्द को दिखाने पर पहले तो पीड़ित हिन्दुओ को ही धमकाने लगता है और उसके बाद उस आवाज को दुनिया के आगे लाने वाले पत्रकार पर ही मुकदमा लिख देता है . वो मकसद नहीं बल्कि साजिश होती है जिसके पीछे मंशा ये होती है कि ये आवाज किसी और को सुनाई न दे और दुबारा हिन्दू और हिंदुत्व का नाम लेने वाले के मन में इतना खौफ भर दिया जाय कि वो कट्टरपंथ का नंगा नाच अपनी आँख से देख का भी चुपचाप गुजर जाए .

ज्ञात हो कि सुदर्शन न्यूज के पत्रकार योगेश मिश्र पर छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के इशारे पर मुकदमा केवल इसलिए दर्ज हो गया क्योकि उन्होंने रायपुर में एक हिन्दू परिवार की व्यथा दिखाई थी जो चारो तरफ से मजहबी कट्टरपन्थियो द्वारा डराए जा रहे थे.. इस खबर के वायरल होने के बाद रायपुर जिले के पुलिस अधीक्षक मोहम्मद आरिफ ने न जाने किस मंशा से उसी परिवार को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया जो पहले से ही कट्टरपन्थियो द्वारा भयभीत था ..

इतना ही नहीं उस परिवार का साथ देने वाले हर व्यक्ति पर शिकंजा कसा जाने लगा जिसमे सुदर्शन न्यूज के पत्रकार योगेश मिश्र प्रमुख हैं . अब छत्तीसगढ़ पुलिस और वहां की सरकार की इसी कार्यशैली को देख कर कई राष्ट्र विरोधी तत्वों के हौसले बुलंद हो गये हैं और उन्होंने हिन्दू ही नहीं हिंदुस्थान की तमाम पारंपरिक संस्कारो पर वार करना शुरू कर दिया है . इसी क्रम में रायपुर से थोड़ी दूर स्थित जिले कांकेर का नम्बर आता है जहाँ एक स्कूल भारत माता की जय न बोलने का फरमान अपने यहाँ पढने वाले बच्चो को सुना देता है .

मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से मिल रही खबरों के अनुसार इस स्कूल का नाम जोसेफ इंग्लिश मीडियम स्कूल है. आरोप है कि स्कूल परिसर में भारत माता की जय बोलने पर बैन है। बच्चों को ये नारा लगाने से रोका जाता है और नारा लगाने की स्थिति में उनपर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी जाती है। यह भी आरोप लगाया कि स्कूल ईसाई समुदाय के लोगों द्वारा संचालित किया जाता है, इसलिए यहां भारत माता की जय बोलने पर प्रतिबंध लगाया गया है।

परिजनों और कई संगठनों ने स्कूल पर आरोप लगाते हुए प्रदर्शन शुरू कर दिया। साथ ही स्कूल प्रबंधन के खिलाफ प्रशासन ने शिकायत करने की भी बात कही। यह स्कूल एक समुदाय विषेश की ओर से संचालित किया जाता है। हंगामा बढने पर स्कूल प्रशासन भी सामने आ गया और उसने सफाई दी है कि इस तरह के नारे लगाने पर कोई रोक नहीं लगाई गई है। वहीं नारेबाजी को लेकर सियासत भी शुरू हो गई है और भाजपा- कांग्रेस आमने-सामने हो गए हैं।

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW