लालू के बेटे की शादी से ठीक पहले हुआ हिंदुत्व का घोर अपमान… इस बार निशाने पर महादेव

 


वो हिंदुत्व विरोधी राजनीति के सबसे बड़े पैरोकार रहे हैं. जब सनातन के परम पूज्य भगवा ध्वज को आतंक से जोडकर भगवा आतंक बोला गया था तो उस समय ये मुस्कुरा रहे थे. जब दुनिया को सद्मार्ग दिखाने वाले सनातन हिन्दू धर्म को आतंक से जोडकर हिन्दू आतंकी बोला गया था तो उस समय ये प्रसन्न हो रहे थे. जब हिन्दुओं के आराध्य, हिन्दुस्थान की पहिचान प्रभु श्रीराम निर्मित श्रीरामसेतु को काल्पनिक बताया गया था, उस समय इनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था. अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर श्रीराम मंदिर के निर्माण का विरोध करने वालों में भी इनकी आवाज सबसे तेज सुनाई देती है. लेकिन आज जब इनके बेटे की शादी है तो इनके बेटे की शादी के बधाई पोस्टर में इनके बेटे को भगवान शिव बनाया गया है.

कहने का तात्पर्य है कि जब-जब हिंदुत्व का अपमान किया गया, जब जब हिन्दू आस्थाओं का दमन किया गया तो उसमें इन्होने अग्रणी भूमिका निभाई. हम बात कर रहे हैं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री तथा राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव की. लालू प्रसाद यादव ने हमेशा ने मुस्लिम तुस्टीकरण की राजनीति की है तथा हिन्दुओं की भावनाओं का, हिन्दुओं की आस्थाओं का दमन किया है. लेकिन आज उन्ही लालू के बेटे तेजप्रताप यादव की शादी है तो तेज प्रताप यादव को भगवान शिव के रूप में दिखाकर भगवान शिव का अपमान किया गया है.

बता दें कि आज 12 मई को लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव की शादी पटना में हो रही है. अब राजद की ओर से तेजप्रताप यादव को शादी की शुभकामनाएं देते हुए एक पोस्टर बनाया गया है जिसमें तेजप्रताप यादव को भगवान शिव तथा उनकी पत्नी ऐश्वर्या को माँ पार्वती के रूप में दिखाया गया है. मुस्लिम तुष्टीकरण की प्रतीक रहे लालू यादव के बेटे की शादी में एक बार फिर से महादेव का अपमान किया गया. तेजप्रताप यादव को भगवान शिव के रूप में दिखाना न सिर्फ भगवान शिव का बल्कि समस्त हिन्दू धर्म का अपमान है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW