नाम था नेक मोहम्मद, लेकिन काम था कुछ और… शरीर भारत का लेकिन दिल पाकिस्तानी

हाल ही में बिहार के पूर्वी चंपारण से गिरफ्तार हुए कुख्यात नेक मोहम्मद के बारे में सनसनीखेज तथ्य सामने आ रहे हैं. नाम तो उसका नेक मोहम्मद है लेकिन उसका काम कतई नेक नहीं है. नेक मोहम्मद हिंदुस्तान में रहता था लेकिन उसका दिल पाकिस्तान के लिए धडकता था. बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में कई आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वाले आदापुर के शातिर बदमाश नेक मोहम्मद के तार सिवान के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन से भी जुड़े पाए गये हैं. इस तथ्य का खुलासा बुधवार को तब हुआ जब नेक मोहम्मद ने अपना स्वीकारोक्ति बयान पुलिस के समक्ष दिया, यही नहीं नेक मोहम्मद के संबंध नेपाल में सक्रिय आइएसआइ के कारिंदों से भी बताए जा रहे हैं.

खबर के मुताबिक, पूंछताछ में पुलिस को नेक मोहम्मद ने बताया है कि 26 फरवरी 2018 को आदापुर स्टेशन शिक्षक चैन साह को गोली मारने के बाद वह जेल में बंद पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के शूटर के घर पर छिपा था. जिस शूटर के घर नेक मोहम्मद छिपा था वह सिवान के पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में जेल में बंद है. लेकिन, पूर्वी चंपारण के इस बदमाश को उसके घर पर पनाह मिल गई थी. पुलिस शिक्षक गोलीकांड के बाद नेपाल में बदमाश के आइएसआइ कनेक्शन की जांच कर रही है. कारण यह कि शिक्षक को गोली मारने में उसके साथ नेपाल का एक बदमाश भी शामिल था. वह नेपाल के गौर का रहने वाला है तथा नेपाल के कई बदमाश उसके साथी हैं.
बता दें कि 21 मई को सुगौली में जब्त 550 ग्राम विस्फोटक से दहशत फैलाने की साजिश की गई थी. गिरफ्तार बदमाश ने खुलासा किया है कि भांजा सद्दाम के घर से बरामद विस्फोटक से ही विस्फोट करना था. लेकिन, नेक व सद्दाम के आने की सूचना पर पुलिस ने छापेमारी की. सद्दाम 550 ग्राम विस्फोटक के साथ पकड़ा गया. जबकि वह खुद फरार होने में सफल रहा. इससे पहले 2014 में सद्दाम की मां जरीना खातून भी विस्फोटक के साथ पकड़ी गई थी. ऐसे में बदमाश अपनी बहन व भांजे का इस्तेमाल विस्फोटक छिपाने के लिए करता था.
नेकमोहम्मद पर बम विस्फोट, हत्या व रंगदारी सरीखे मामले जिले के रक्सौल, आदारपुर, हरपुर, तुरकौलिया, रामगढवा व रेल थाना रक्सौल में दर्ज है. 2010 में उसने रक्सौल के राणी सती मंदिर के पास मोटर्स पाटर्स के एक व्यवसायी के प्रतिष्ठान पर बम विस्फोट किया था. हाल में 14 व 16 मई 2018 को शातिर बदमाश ने रामगढ़वा थाना के आमोदेई पंचायत के पैक्स अघ्यक्ष मंथू राजा से 14 व 16 मई को फोन कर पांच लाख की रंगदारी मांगी थी. पुलिस जांच में यह बात सामने आई है कि नेक मोहम्मद बम बनाने में मास्टर है. चलते-चलते वह बम बनाकर विस्फोट करा देता है.
गौरतलब है कि रामगढ़वा के पीपरपाती चौक से मंगलवार को एक बदमाश को गिरफ्तार किया गय था. उसके पास से दो किलो मादक पदार्थ, एक तमंचा, तीन कारतूस व रंगदारी में प्रयुक्त सेलफोन व सिम कार्ड भी बरामद किया गया है. पुलिस जब्त आग्नेयास्त्र व अन्य चीजों की वैज्ञानिक जांच करा रही है. पुलिस को गुप्त सूचना थी कि नेक मोहम्मद नेपाल से होकर पीपरपाती चौक होते हुए बगहा जा रहा है. इसी क्रम में छापेमारी टीम ने उसे गिरफ्तार किया. पुलिस सामने आए नए तथ्यों पर जानकारी के लिए उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी. वहीं आइएसआइ से उसके संबंधों की भी जांच की जाएगी.

Share This Post

Leave a Reply