Breaking News:

एक गाँव जहां वो आये थे धर्म परिवर्तन करवाने… लेकिन वापस गये एक कैदी के रूप में… जनता जाग गयी थी वहां की

हाथ में बाइबिल, गले में क्रॉस लटकाए वो लोग वहां आये हुए थे. उनका उद्देश्य था हिन्दू समाज के लोगों को इसाई मत में धर्मान्तरित करना. लेकिन शायद उन्हें पता नहीं था कि वहां का हिन्दू अब जाग चुका है तथा उनके प्रलोभन में आने वाला नहीं हैं. धर्मान्तरणकारी आये थे वहां धर्मान्तरण कराने लेकिन वापस गये तब उनके हाथ बेड़ियों में जकड़े हुए थे. जब तक वह धर्मान्तरण को अंजाम दे पाते तब तक वहां बजरंग दल, विहिप तथा अन्य हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता वहां पहुँच गये तथा उनके मंसूबों को ध्वस्त कर दिया. 

मामला बिहार के सहरसा का है जहाँ धर्म परिवर्तन कराने वाले रैकेट का खुलासा हुआ है. दरअसल सहरसा के शारदा नगर स्थित एक मकान में कुछ लोगों द्वारा किसी विशेष धर्म के प्रति प्रचार-प्रसार एवं धर्म परिवर्तन कराए जाने का मामला प्रकाश में आया है. सूचना मिलने पर पुलिस छानबीन करने पहुंची.  पुलिस प्रशासन ने घर से प्रचार-प्रसार व धर्म परिवर्तन करवाने के आरोप में दो लोगों को हिरासत में लिया है. दोनों से पुलिस फिलहाल पूछताछ कर रही है. बताया गया है कि धर्म परिवर्तन कराने की सूचना पर बजरंग दल, विहिप तथा अन्य हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता वहां पहुँच गये तथा धर्मान्तरणकारियों के खिलाफ हंगामा शुरू कर दिया. तब तक सूचना मिलने पर पुलिस भी पहुँच गयी तथा पुलिस ने हिन्दू संगठनों से शांति बनाये रखने की अपील की तथा कहा कि वह मामले की सत्यता जांचने के बाद कार्यवाही करेगी, तब तक स्थिति को सामान्य बनाये रखने का अनुरोध किया.

इस मामले में सदर एसडीओ शम्भूनाथ झा ने कहा है कि कुछ लोगों द्वारा शिकायत की गई थी कि जबरदस्ती धर्म परिवर्तित कराया जा रहा है. मौके पर 10-15 की संख्या में महिला और पुरुष मौजूद थे. पूछताछ के बाद उनलोगों ने कहा कि वो प्रार्थना के उद्देश्य से वहां गए थे. मामले की फिलहाल जांच की जा रही है.
जांच के बाद अगर धर्म परिवर्तन का मामला आया तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी. वहीं डीएसपी ने इस मामले पर कहा कि पुलिस को सूचना मिली थी कि किसी वशेष धर्म का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है. मामले में दो लोगों से पूछताछ की जा रही है.

Share This Post