वो अरब से आया तो बीबी ने सोचा कि कोई उपहार देने आया है.. लेकिन असल में वो आया था तलाक देने


मजहबी समाज में महिला की दशा दयनीय है और महिलाओ को इस समाज में बड़ी यातनाए सहनी पड़ती है। मजहबी के ठेकेदार न जाने कोन से अजीबो गरीबो बहानो से महिलाओ को अपना शिकार बनाते है. कभी देहज के नाम पर कभी मजहब के नाम पर महिलाओ को नहीं छोड़ते और उन्हें हमेशा ही जलील करते है। भारत में सुप्रीम कोर्ट मजहबी महिलाओ को सुरक्षा प्रदान देने लिए तीन तलाक जैसे अभिशाप पर रोक लगा दिया है. उसके बाद भी मजहबी समाज निरतंर छोटी छोटी बातो पर तलाक देने लगे है।

जबसे तीन तलाक मुद्दे पर बहस छिड़ी है तब से देश में तलाक के अजीबोगरीब मामले सामने आ रहे है। ज्यादतर मामले में जरा सी बात पर तलाक कहकर हमेशा के लिए घर से निकाल देते है। ऐसा ही मामला बिहार के गया जिले का है। जहां सऊदी में रहकर नौकरी करने वाला एक युवक का अपनी पत्नी से मनमुटाव हुआ था।

जिसके वजह से वह सऊदी से गया पहुंचा और पत्नी से मारपीट करते हुए घर के दरवाजे से बाहर निकाल दिया तथा सादे कागज पर तीन बार तलाक तलाक लिखकर घर से बाहर कर दिया। वहीं गर्भवती पत्नी अपने पति और ससुराल वालों के सामने रोती गिड़गिड़ाती रही, लेकिन किसी ने भी उसकी एक ना सुनी और धक्के मारकर घर से बाहर निकाल दिया। जिसके बाद वह थाने पहुंची और अपने पति के साथ साथ ससुराल वालों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है। कैसे एक महिला अपना सारा जीवन परिवार के सेवा में बिताती है और बदले में उसे क्या मिलता है तलाक. मजहबी समाज पुरुष प्रधान समाज ने ना जाने कितने विषंगितियो को अपना रखा जिससे वे अपने समाज के महिलाओ को उपभोग की वस्तु समझते है।

मिली जानकारी से मामला समाने आता है कि जहां के मानपुर अबगिल्ला जगदीशपुर के रहने वाले नाजिया परवीन की शादी 2007 में परवेज आलम के साथ हुई थी। शादी के बाद कुछ दिनों तक सब कुछ ठीक ठाक रहा, लेकिन उसके बाद लगातार उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता था और मारपीट किया जाता था. महिला के घर वाले कुछ समय पहले अपनी जमीन बेचकर एक लाख रुपए संसुराल वालो को दिया था। इसके बाद संसुराल ने गाड़ी की मांग की न देने पर संसुराल वालो ने महिला के साथ मारपीट की और उसे घर से धक्के मार कर निकाल दिया।

महिला ने इस मामले को पुलिस में लिखित शिकायत की। पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए मुफ्फसिल थाना प्रभारी ने बताया की नाजिया प्रवीण के द्वारा दिये गए लिखित आवेदन के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। जिसमें यह आरोप लगाया है कि उसके पति ने मायके से उसे अपने घर बुलाते हुए मारपीट किया और सादे कागज पर तलाक-तलाक-तलाक लिखकर तलाक दे दिया। फिलहाल पुलिस इस मामले की जांच पड़ताल कर रही है और जल्द ही इसके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...