गांववाले उसे भगवान कहते थे लेकिन वो निकला हैवान… निजामुद्दीन ने तबाह कर दिया एक दलित महिला की इज्जत को..


निजामुद्दीन डॉक्टर था तथा पूरे गाँव में उसका अथाह सम्मान था. गाँव के लोग उसको डॉक्टर साहब कहकर बुलाते थे. गांववाले कहते थे कि निजामुद्दीन उनके गांव के लिए भगवान समान है. लेकिन एक डॉक्टर होने के बाद भी निजामुद्दीन की सोच हैवान की थी. उसके बाद निजामुद्दीन ने वो किया जो किसी ने सोचा भी नहीं था. निजामुद्दीन ने अपनी मजहबी दुराचारी भावना से ग्रसित होकर गाँव की ही एक दलित महिला को अपनी हवस का शिकार बना लिया.

मामला बिहार के पूर्णिया जिले के जलालगढ़ थाना का है.  पुलिस ने केस दर्ज करते हुए आरोपी डॉक्टर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. बताया जा रहा है कि दुष्कर्म की यह घटना पांच दिन पहले की है. पीड़ित महिला शाम चार बजे मवेशी लाने गांव के बाहर ही बहियार पर गयी थी. उसका आरोप है कि बहियार पहुंचने पर ग्रामीण चिकित्सक गिरदा गांव निवासी निजामुद्दीन ने पहले उसके साथ छेड़खानी की, फिर बगल के मकई खेत में घसीट कर ले गया. शोर मचाने की कोशिश की तो उसके मुंह में रूमाल ठूंस दिया तथा उसके साथ बलात्कार किया व् जान से मारने की धमकी देते हुए घटना को लेकर चुप रहने की धमकी भी दी.

बलात्कार करने के बाद दुराचारी डॉक्टर निजामुद्दीन वहां से चला गया. इसके बाद पीड़िता ने घर अपने परिजनों को घटना की जानकारी दी जिसके बाद महिला के परिजनों ने पंचायती की, लेकिन आरोपी या उसके परिजन उसमें शामिल नहीं हुए. इसके बाद पीड़िता ने शनिवार की देर शाम जलालगढ़ थाने में प्राथमिकी दर्ज करवायी. जलालगढ़ थानाध्यक्ष ने बताया कि इस मामले में दुष्कर्म और एससीएसटी एक्ट में मामला दर्ज कर आरोपी निजामुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया गया है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...