Breaking News:

शहाबुद्दीन जैसे दुर्दांत अपराधी को पदाधिकारी बनाने वाली पार्टी की मुखिया बोलीं- “भाजपा कार्यालयों में रहते हैं आतंकी”

एक बार उनको अचानक से एक सूबे की मुख्यमंत्री की गद्दी सौंप दी गयी थी. जी हां उनको बिहार की मुख्यमंत्री बनाया गया था. जिस समय मुख्यमंत्री पद के लिए उनके नाम की घोषणा हुई तो किसी को भरोसा तक नहीं हुआ. जी हाँ जब 1997 में बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले में जेल की सजा हुई तो लालू ने अपनी पत्नी राबडी देवी को बिहार की गद्दी पर बिठाया. राबडी देवी अक्सर विवादित बयान देती रहती हैं और अब अररिया लोकसभा सीट पर राजद की जीत तथा NDA की हार के बाद राबडी देवी ने एक बार फिर बदजुबानी की है.

ज्ञात हो कि कल 14 मार्च को उत्तर प्रदेश की गोरखपुर तथा फूलपुर व बिहार की अररिया सीट पर हुए उपचुनाव के परिणाम आये जिसमें तीनों सीटों पर सत्ताधारी पार्टी को हार मिली तथा यूपी की दोनों सीटों पर सपा व बिहार की अररिया सीट पर राजद को जीत मिली. इन चुनाव परिणामों के बाद जहाँ भाजपा खेमा मायूस है वहीं विपक्षी पार्टियाँ अपनी जीत से ज्यादा भाजपा की हार का जश्न मना रही हैं. और इसी जीत के जश्न के बीच राबडी देवी ने भाजपा को लेकर एक विवादित टिप्पणी है.

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबडी देवी ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा है कि पूरे देश के भाजपा कार्यालयों में आतंकवादी बैठते हैं. ये वही राबडी देवी हैं जिनकी पार्टी में समाज के सबसे बड़े दुश्मन, दुर्दांत अपराधी सहाबुद्दीन को बड़ा पद दिया गया था. दुर्दांत अपराधी को शरणागति देने वाली राबडी भाजपा के कार्यकर्ताओं को आतंकवादी तथा भाजपा कार्यालयों को आतंकियों का अड्डा बता रही हैं

ये वही राबडी हैं जिनकी पार्टी को इशरत आतंकी नही लगती लेकिन इनको भाजपा के 10 करोड़ से ज्यादा कार्यकर्ता आतंकी लगते हैं. अपनी ही पार्टी की एक लोकसभा सीट पर उपचुनाव में जीत पर राबडी देवी इस कदर उत्साहित हो गईं कि भाजपा कार्यालयों को आतंकियों का अड्डा बता रही हैं लेकिन इनको देश के टुकड़े करने की कसम खाने वाले उमर खालिद तथा कन्हैया क्रांतिकारी लगते हैं. निश्चित रूप से राबडी देवी के लिए उनका ये बयान भगवा आतंकी व हिन्दू आतंकी से ज्यादा आत्मघाती साबित होगा. 

Share This Post

Leave a Reply