थोड़ी देर में आ सकता है लालू के साथी दुर्दांत अपराधी शहाबुद्दीन पर अदालत का फैसला….. पीड़ितों को है न्याय की आश

देश की न्यायलय एक्शन मोड में है . पिछले कुछ दिनों से लगातार बड़े मामलो पर न्यायलो के फैसले आ रहे है . जिस तरह से कानून का मखौल उड़ा कर बच निकलते आये है मोदी सरकार और कोर्ट इन चीजों को लेकर सख्त हो गयी है .लोगो का कानून व्यवस्था पर विश्वास बढ़ गया है

.आतंक का प्रर्याय रहे कभी बिहार में बाहुबली रहे आजकल भीगी बिल्ली बना हुआ है . कानून को खेल समझ बहुत सारे दुराचार में उस व्यक्ति का नाम है .उसका नाम शहाबुद्दीन है . देश की जनता ,बिहार की जनता ऐसे दानव को फांसी की मांग कर रही है .लालू से बहुत अच्छे है रिश्ते है शाहबुद्दीन के , लालू खुद ख्याल रखते है ऐसे खुनी का 

आपको बता दे की बिहार के चर्चित तेजाब कांड में आज फैसला आएगा. ये वही चर्चित तेज़ाब काण्ड है जो 2004 में हुयी थी . 16 अगस्त, 2004 का दिन इस परिवार के लिए काला दिन बन कर आया था .बड़े भाई की आंखों के सामने सतीश और गिरीश को तेजाब से जलाकर मार डाला गया. इसके बाद उन दोनों की लाश के टुकड़े टुकड़े करके बोरे में भरकर फेंक दिए गए. 

जिसके बाद सीवान स्पेशल कोर्ट के न्यायाधीश ने 11 दिसंबर 2015 को तेजाब हत्या कांड के नाम से चर्चित अपहरण एवं हत्या के मामले में मो.शहाबुद्दीन के साथ-साथ राजकुमार साह, मुन्ना मियां एवं शेख असलम को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. सीवान की स्पेशल कोर्ट के फैसले को चुनौती देते हुए शहाबुद्दीन ने पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. हाईकोर्ट ने 30 जून 2017 को ही शहाबुद्दीन की सजा पर फैसला सुरक्षित कर लिया था .जिसका फैसला हाई कोर्ट आज सुनाएगी .इस हैवानियत की सजा सजाये मौत मांग रही है उसकी माँ . वो माँ जिसने अपने बेटे को खो दिया ,वो माँ कलावती देवी जिसने इन्साफ को ,कानून को अहमियत देते हुए 16 अगस्त 2004 को मुफस्सिल थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी .

Share This Post