तेजस्वी यादव को भाजपा के वरिष्ठ नेता का जवाब…अगर जेल में भी लालू की जान को खतरा है तो क्या लालकिला में बंद कर दें?


बिहार के चर्चित चारा घोटाले दुमका कोषागार से अवैध रूप से धन निकासी के आरोप में आरजेडी प्रमुख तथा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को दो अलग अलग धाराओं में 7-7 साल जेल की सजा तथा 30 लाख रूपये जुर्माना की सजा सुनाई गयी है. लालू यादव वो सजा सुनाये जाने के बाद उनके बेटे तथा पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर बड़ा आरोप लगाया. तेजस्वी यादव ने कहा कि जेल में उनके पिटा लालू यादव की जान को खतरा है तथा इसके लिए भाजपा किसी भी हद तक जा सकती है. तेजस्वी यादव के इस आरोप पर भाजपा नेता तथा बिहार के उपमुख्यमंत्री श्री सुशील मोदी ने पलटवार किया है.

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि जो आदमी जेल में बंद है, जो पुलिस कस्टडी में है, अगर उसकी जान पर खतरा है तब तो उनको लालकिले में बंद करवा देना चाहिए. उन्होंने कहा कि लालू यादव सजायाफ्ता हैं, वह इस समय जेल में हैं, तीन-चार दिनों के लिए इलाज कराने के लिए पुलिस संरक्षण में हैं और लोगों को मिलने नहीं दिया जा रहा है. रोज पूर्व से लेकर शिवानंद तिवारी का बयान आ रहा है कि मिलने नहीं दिया जा रहा है, तो क्या कहना चाहते हैं. इनको पिंजरे में बंद कर दिया जाए, इनके पास कोई जवाब नहीं. उन्होंने कहा कि इनके पास तो एक ही बात है, मार देंगे, हत्या कर देंगे, यह BJP का षड्यंत्र है, BJP कहां है. अगर यह पिटीशन दाखिल किया सुशील मोदी और लल्लन सिंह ने तो शिवानंद तिवारी भी तो थे जो आज लालू जी के दाहिना हाथ बने हुए हैं. एक मामले में नहीं, यह चौथा मामला था जिसमें सजा हुई है.

तेजस्वी के लालू यादव को 2019 के चुनाव तक जेल से बाहर नहीं आने देने के षडयंत्र के आरोप पर सुशील कुमार मोदी ने कहा कि क्या हमने सजा दिया है, क्या हम लोगों ने उनको जेल में रखा या कोर्ट ने रखा. जिसको जो कहना है कहे मैं क्या जवाब दूं. अगर बिहार पुलिस ने किसी अपराधी को पकड़ कर थाने में बंद किया होता तब तो एक बात थी वो तो न्यायिक हिरासत में हैं. इसमें BJP कहां से आती है, नीतीश कुमार कहां से आते हैं, लेकिन अपने कार्यकर्ताओं को खुश करने के लिए कुछ भी बयान दे देना है, कुछ भी बोल देना है. उन्होंने कहा कि बयान देने से ना सजा कम होगी और ना बढ़ेगी, वहां तो मेरिट पर काम होगा. लालू को फंसाने के आरोप में बोलते हुए मोदी ने कहा कि उस जमाने का 13 करोड़ आज के 300 करोड़ से बराबर है. अब लालू यादव के लोग यह प्रचार करें कि बीजेपी ने फंसा दिया तो यह फैसला क्या बीजेपी ने दिया है, क्या BJP के किसी कार्यकर्ता का फैसला है?

मोदी ने कहा कि यह न्यायपालिका का फैसला है, आरजेडी के लोग ऐसा प्रचार कर रहे हैं, मानो की सीबीआई स्पेशल कोर्ट का जज CBI का ही आदमी होता है. आपने हिंदुस्तान के बेहतरीन वकीलों को बुलाकर बहस करवाया, सीबीआई ने बहस किया, गवाह गुजरे, उसके बाद कोर्ट ने फैसला किया और एक मामले में नहीं 4 मामलों में फैसला हुआ है. वो क्या प्रचार करना चाहते हैं, कभी कहते हैं लालू को जेल और जगन्नाथ मिश्रा को बेल, कभी कुछ, कभी कुछ. सवाल तो यह है कि जिन पर आरोप लगे उस पर क्या जवाब है इनके पास और जवाब होता तो 4 में से किसी ना किसी मामले में तो यह बरी हो जाते. लेकिन एक भी मामले में यह आज तक बरी नहीं हुए. सुशील मोदी ने कहा कि तेजस्वी यादव को अनर्गल आरोप लगाने के बजाय सच स्वीकार करना चाहिए और सच ये है कि लालू को उनके कर्मों की सजा अदालत ने दी है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share