सब इंस्पेक्टर से VRS ले कर मायावती की पार्टी के नेता बने थे शब्बर जैदी.. फिर बरसीं ताबड़तोड़ गोलियां


उत्तर प्रदेश पुलिस को मिली है फिर से एक चुनौती और गाजियाबाद में एक पूर्व सब इंस्पेक्टर को अपराधियों द्वारा मार दिया गया है . सब इंस्पेक्टर राजनीति में रूचि लेने के चलते कुछ समय पहले नौकरी से त्यागपत्र देने के बाद बहुजन समाज पार्टी से जुड़ गया था .. अभी तक ये समझ नहीं पाया गया है कि किसी की ऐसी कौन सी दुश्मनी है जो उनको मारा गया . पूर्व सब इंस्पेक्टर के पूर्व के किसी कार्य के चलते या वर्तमान में किसी घटना के चलते ऐसा किया गया .

समाजवादी पार्टी मे 10 से 25 करोड़ रुपये मे मिल रहा लोकसभा टिकट?? बेचा जा समाजवाद का सिद्धांत

विदित हो कि गाजियाबाद जिले के लोनी बॉर्डर थाना क्षेत्र की उत्तरांचल विहार कॉलोनी में जैसे ही शब्बर जैदी सुबह भ्रमण के लिए निकले वैसे ही उनको पहले से घात लगाए अपराधियों ने घेर लिया और इस से पहले शब्बर जैदी या कोई अन्य कुछ समझ पाता , उनके ऊपर गोलियों की बौछार कर दी गयी जिसमे उनकी मौत हो गयी .

कांग्रेस के लिए मुसीबत बनता जा रहा चौकीदार चोर है का नारा, अब अमर सिंह भी बने चौकीदार

घात लगाये बदमाशों ने इस दुस्साहसिक घटना को शब्बर जैदी के घर से महज 100 मीटर की दूरी पर अंजाम दिया। पुलिस विभाग से त्यागपत्र देने के बाद शब्बर जैदी नेतागीरी के अलावा अपना कारोबार भी कर रहे थे . पुलिस ने शब्बर जैदी के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज कर बदमाशों की तलाश में जुट गई है। बसपा नेता शब्बर जैदी (55) बेहटा हाजीपुर गांव में रहते थे।  शब्बर जैदी 2007 में लोनी नगर पालिका का चेयरमैन का चुनाव भी लड़ चुके थे। बताया जा रहा है कि शब्बर जैदी को 6 गोलियां मारी गयी हैं .

एक अभिनंदन के लिए तडप उठा था देश. पर यासीन मालिक तो मार चुका है एयरफोर्स के 5 वीरों को. फिर भी उसे “आतंकी” नहीं “अलगाववादी” कहती रही “इमरान गैंग”


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...