आतंकियों के समर्थन में उतरे जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुख अब्दुल्ला, दिया विवादित बयान

श्रीनगर : नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला ने एक बार फिर राष्ट्रविरोधी बयान दिया है। फारूख अब्दुल्ला ने कहा है कि कश्मीर में आतंकी बन रहे युवक विधायक या सांसद बनने के लिए नहीं बल्कि इस कौम और वतन की आजादी के लिए अपनी जान कुर्बान कर रहे हैं। वे आजादी और अपने हक के लिए लड़ रहे हैं। 
फारूख अब्दुल्ला ने कश्मीरी यूवाओं से कहा कि वे कश्मीर की आजादी के लिए अपनी जान दे रहे लड़कों की कुर्बानियों को हमेशा याद रखें। फारूख अब्दुल्ला ने कहा सब जानते हैं कि ये लड़के बंदूक क्यों उठा रहे हैं। ये हमारी जमीन है और हम ही इसके असली वारिस हैं। ये लड़ाई 1931 से ही जारी है।
नेशनल कांफ्रेंस मुख्यालय में हुए एक कार्यक्रम में फारूक ने कहा कि ये लड़के (उग्रवाद की राह पर) निकले हैं। हर शख्स जीना चाहता है। कोई मरना नहीं चाहता। उन्होंने अल्लाह से वादा किया है कि जिंदगी और मौत का फैसला आप करिए, लेकिन हम इस देश की आजादी के लिए अपनी जान कुर्बान करेंगे।’
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कुर्बानी दे रहे लड़के विधायक, सांसद या मंत्री नहीं बनना चाह रहे। वे अपने हक की मांग के लिए कुर्बानी दे रहे हैं। वे कहते हैं कि यह हमारी सरजमीं है और हम ही इसके वाजिब मालिक हैं, लेकिन वे (भारत और पाकिस्तान) इसे नहीं समझते। भारत और पाकिस्तान दोनों पर बरसते हुए फारूक ने कहा कि दोनों देशों ने कश्मीरियों के साथ इंसाफ नहीं किया। 
Share This Post