Breaking News:

सामने आया वो सच जिसके चलते बुलन्दशहर की CO का हुआ ट्रांसफर .. उस CO का जिसको मुद्दा बना कर कुछ आरोप लगा रहे थे योगी पर

पिछले कुछ दिनों से चर्चा में आया हुआ एक नाम है CO श्रेष्ठा सिंह जी का ..उनकी तेज तर्रार छवि सबके सामने तब आई जब उन्होंने भाजपा के नेताओं के दबाव में जरा सा भी न आते हुए सीधे सीधे चालान काट कर दोषियों के हाथ मे पकड़ा दिया और ज्यादा बोलने पर जेल भेजने की भी धमकी दी …

तभी अचानक उनका ट्रांसफर हो गया और उनको आदेश हुआ बहराइच जाने का जो वहां से सैकड़ो किलोमीटर दूर था .. अचानक ही इसके बाद कई सोसल मीडिया के वीर कूद गए थे इस मामले में ..  इस भावनात्मक मामले में सिर्फ विपक्ष वाले ही नहीं बल्कि योगी जी की अपनी ही पार्टी के तमाम लोग ऐसे सामने आए जिन्होंने अपनी नाराजगी जताई और उस पुलिस अधिकारी के लिए इंसाफ मांगा ..

कुछ समय पश्चात पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा सिंह की एक फेसबुक पोस्ट सामने आई जिसमे उन्होंने दिया जहां जलेगा वहां उजाला करेगा जैसी पोस्ट डाली और उनकी पोस्ट का स्क्रीन शॉट ना सिर्फ योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ एक अस्त्र की तरह उपयोग होने लगा अपितु उसे सीधे सीधे सत्ता के खिलाफ संघर्ष का हथियार बना डाला गया …

जब सुदर्शन न्यूज ने इस मामले की पूरी पड़ताल की तब जा कर ज्ञात हुआ कि पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा सिंह का तबादला रूटीन ट्रांसफर के तहत हुआ था .. इस विवाद से बहुत पहले सत्ता के शीर्ष से जो अधिकारियों की ट्रांसफर सूची बन रही थी उसमें पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा सिंह जी का भी नाम था और ये ट्रांसफर कोई व्यक्तिगत नहीं बल्कि सामूहिक रूप से हुआ था जिसके कई पुलिस अधिकारी एक साथ एक ही समय पर इधर उधर किये गए थे जिनमें एक थीं श्रेष्ठा सिंह जी भी …

पुलिस अक्सर आम जनता से प्रेम व असामाजिक तत्वों से अपनी झडप के लिए सुर्खियों में आती रहती है .. को श्रेष्ठा सिंह जी के साथ ट्रांसफर हुए अन्य अधिकारी भी कहीं ना कहीं किसी ना किसी मामले में असमाजिक तत्वों से लड़ते आ रहे थे पर उसी सूची में उनके भी नाम थे ..फिर भी तूल केवल एक नाम श्रेष्ठा सिंह का ही दिया जाना वाकई सोचने का विषय है …

Share This Post